Bajrang Baan Pdf Download in Hindi with Lyrics

संकट मोचन हनुमान जी के अनेक रूप हैं उनमें से एक वज्र रूप वाले हनुमान जी को बजरंग बली कहा जाता है , हनुमान जी कलयुग के जागृत देव हैं जो थोड़ी पूजा पाठ से ही शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं ! बजरंगबली को प्रसन्न करने के लिए Bajrang Baan का पाठ करें ! Bajrang Baan बहुत ही शक्ति साली है !

what is Bajrang Baan

बजरंग बाण का प्रयोग करना चाहिए जब आप कोई बड़ी मुसीबत में फंस गए हो या जब कहीं से कोई रास्ता ना दिखाई दे बजरंग बाण का सही से विधि पूर्वक प्रयोग किया जाए तो इसका बार कभी खाली नहीं जाता है !

बजरंग बाण का प्रयोग सदा ही धर्म के कार्य में ही करना चाहिए ऐश्य, द्वेष या किसी दुश्मनी में आपने इसका गलत प्रयोग किया तो हानि आपको उठानी पड़ सकती हैं ! तो आइए जानते हैं बजरंग बाण का प्रत्येक पंक्ति का अर्थ –

Bajrang Baan Lyrics in Hindi

निश्चय प्रेम प्रतीति ते विनय करें सनमान तेहि के कारज सकल शुभ सिद्ध करैं हनुमान !
अर्थात जो भी राम भक्त श्री बजरंगबली हनुमान के सामने संकल्प लेकर पूरी श्रद्धा और प्रेम से उनसे प्रार्थना करता है श्री हनुमान उनके सभी कार्यों को शुभ करते हैं !

जय हनुमंत संत हितकारी सुनि लीजै प्रभु अरज हमारी जन के काज विलंब न कीजै आतुर दोरी महासुख दीजिए !
अर्थात है संतों का कल्याण करने वाले श्री हनुमान आपकी जय हो हे प्रभु हमारी प्रार्थना सुन लेती है ,हे बजरंगबली वीर हनुमान भक्तों के कार्यों को सवारने में देरी ना करें वस्तु प्रदान करने के लिए जल्दी से आइए !

जैसे कूदि सिंधु वहि पारा सुरसा बदन पर ही व्यस्त आ रहा आगे जाय लंकिनी रोका मारे हो लात गई सुर लोका जाय विभीषण को सुख दीन्हा सीता निरखि परम पद लीना गुजारी सिंधु महं बोरा अति आतुर यम कातर तोरा अक्षय कुमार मारी सहारा लूम लपेट लंक को जारा ला समान लंक जरि गई जय जय धुनि सुरपुर महाभारत !


अथार्त हे बजरंगबली जैसे आपने कूदकर सागर को पार कर लिया था , सुरसा जैसी राक्षसी ने अपने विशालकाय शरीर से आपको लंका जाने से रोकना भी चाहा लेकिन जिस तरह आपने उसे लात मार कर दे ब्लॉक पहुंचा दिया था ! जिस तरह लंका जाकर आप ने विभीषण को सुख दिया माता सीता को ढूंढकर परम पद की प्राप्ति की आपने रावण की लंका के बा गुजारे और आप रावण के भेजे सैनिकों के लिए यम के दूत बने जितनी तेजी से आपने अक्षय कुमार का शहर किया जैसे आपने अपनी पूंछ से लंका को लाख के महल के सामान जला दिया जैसे आपकी जय-जय कार सुरपुर यानी स्वर्ग में होने लगी !

अब विलंब केहि कारण स्वामी कृपा करहु उर अंतर्यामी जय जय लक्ष्मण प्राण के दाता आतुर होई दुख करहु निभाता जय गिरधर जय जय सुख सागर सुर समूह समरथ भट नागर ओम हनु हनु हनु हनुमंत हठीले बज्र की कीले गजरो रे मारो महाराज प्रभु दास गोस्वामी कर रहे हैं अंतर्यामी कृपा कीजिए भगवान राम के भ्राता लक्ष्मण के प्राण बचाने वाले !


अथार्त हे बजरंगबली हनुमान की जय हो बहुत आतुर हो आप मेरे कष्टों का निवारण करें सुख के सागर बजरंगबली आप की जय हो सभी देवताओं सहित स्वयं भगवान विष्णु जितना सामर्थ्य रखने वाले पवन पुत्र हनुमान आपकी जय हो , हे परमेश्वर रूपी हठीले हनुमान वैश्य कि खेलों से शत्रु पर प्रहार करो अपनी भाषा की गदा लेकर मेरियो का विनाश करो हे बजरंगबली महाराज प्रभु इस दास को छुटकारा दिलाओ !

कार हुंकार महाप्रभु भाव बज्र गदा हनु विलंब न लाओ ओम री री री हनुमंत कपीसा ,ॐ हुं हुं हनु अरि उर शीशा सत्य हो हरीश भाई राम दुत धरू मारू धाई कै जय जय जय हनुमान दादा दुख पावत जन केहि अपराधा !


अर्थात ,हे वीर हनुमान उनका की हुंकार भर कष्ट पर धावा बोला वह अपनी गदा से प्रहार करने में विलंब ना करें शक्तिमान परमेश्वर कपीश्वर बजरंगबली हनुमान दुश्मनों के शीर्ष धड़ से अलग कर दो भगवान श्री हरि खुद कहते हैं कि उनके शत्रु का विनाश राम दूत बजरंग बली हनुमान तुरंत आकर करते हैं ,हे बजरंगबली मैं आपकी दिल की गहराइयों से जय जयकार करता हूं लेकिन प्रभु आपके होते हुए लोगों के कारण दुखी हैं !

पूजा जप तप नेम अचारा नहिं जानत कछु दास तुम्हारा वन उपवन मग गिरि गृह माहीं तुम्हरे बल हम घर पर नहीं पाए परों कर जोरि मनाओ यह अवसर अब केहि कोहरा हो जय अंजनी कुमार बलवंता शंकर सुवन वीर हनुमंता !


अर्थात ,हे महावीर आपका यह दास जब तक नियम आचार कुछ भी नहीं जानता जंगलों में उपवन में रास्ते में पहाड़ों में या फिर घर पर कहीं भी आपकी कृपा से हमें डर नहीं लगता ,हे प्रभु मैं आपके चरणो में पढ़कर अर्थात दंडवत होकर या फिर हाथ जोड़कर आपको मना हो इस समय किस तरह की पुकार लगाओ अंजनी पुत्र ,हे भगवान शंकर के हनुमान आपकी जय हो !

बदन कराल काल कुल बालक राम सहाय सदा प्रति बालक भूत प्रेत पिशाच निशाचर अग्नि बेताल काल मारी मर रहे मारुति शपथ राम की राखु नाथ मर्याद नाम के जनक सुता हरिदास कहां हो ताकी शपथ विलंब न लाओ जय जय जय धुनि होत अकाशा सुमिरत हो इतना सा चरण शरण कर जोरि मनाई अवसर अब केहि कोहराम !


अर्थात ,वीर हनुमान आपका शरीर काल के समान विकराल है ,आप सदा भगवान श्री राम के सहायक बने सदा उनके वचन की पालना की है, भूत प्रेत पिशाच को रात्रि में घूमने वाली दुष्ट आत्माओं को आप अपनी-अपनी से बस में कर देते हैं, आपको भगवान राम की शपथ है, इन्हें मार्ग भगवान राम को अपने नाम की मर्यादा रखो स्वामी अब माता सीता के भी दास कहलाते हैं आपको उनकी भी कसम है ,इस कार्य में देरी ना करें आकाश में भी आपकी जय-जय कार की ध्वनि सुनाई दे रही है ,आप के स्मरण से दुष्कर कद्दू का भी नाश हो जाता है ,आपके चरणों की शरण लेकर हाथ जोड़कर आपसे विनती है. प्रभु आप को किस तरह पुकारो मेरा पथ प्रदर्शन करें मुझे रास हो जाए कि मैं क्या करूं !

उठो उठो चल तोहि राम दुहाई पाई परों कर जोरि मनाई, ॐ चं चं चं चं चपल चलाता ओम हनु हनु हनु हनु हनुमंता ओम महादेव कपि चंचल, ॐ सं सं पर आने का उदय वीर हनुमान आप को भगवान श्री राम की दुहाई है !


अथार्त उठकर चलो आपके पांव कहते हैं आपके सामने हाथ जोड़ते हैं सदा चलते रहने वाले हनुमान चले आओ श्री हनुमान चले आओ हे वानर राजा की हुंकार से राक्षसों के दल से हम रहे हैं बहुत हो गए हैं !

अपने जन को तुरत उतारो सुमिरत होय आनंद हमारा यही बजरंग बाण जेहि मारे ताहि कहौ फिर कौन हो बारू पाठ करै बजरंग बाण की हनुमत रक्षा करै प्राण की यह बजरंग बाण जो जाते ही थे, भूत प्रेत सबका में दूध दही और वह हमेशा ताके तन नहीं रहे कलेशा !


अर्थात हे बजरंगबली श्री हनुमान अपने भक्तजनों का तुरंत कल्याण करो आपके सुमिरन से हमें आनंद मिले जिसको यह बजरंग बान लगेगा फिर उसका उद्धार कौन कर सकता है ,जो इस बजरंग बाण का पाठ करता है ,श्री हनुमान स्वयं उसके प्राणों की रक्षा करते हैं ,जो भी एस बजरंग बाण का जाप करता है उसे भूत प्रेत शब्द करने लगते हैं ,जो बजरंगबली महावीर हनुमान को धूप आदि देकर बजरंग बाण का पाठ करता है उसे किसी प्रकार का कष्ट नहीं स्ताता है !

प्रेम प्रतीति जी कभी बजे सदा धरे और ध्यान तेहि के कारज सकल शुभ सिद्ध करैं हनुमान !

अर्थात ,जो प्रेम से महावीर श्री हनुमान का भजन करता है अपने ह्रदय में सदा उनको धारण किए रहता है ,उनके सारे कार्यों को स्वयं हनुमान सिद्ध करते हैं !

Bajrang Baan Pdf Download

डिस्क्लेमर :- Hindi Gyan किसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है! पायरेसी करना गैरकानूनी है! अत आप किसी भी किताब को खरीद कर ही पढ़े ! इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे !

Bajrang BaanBuy on Amazon