Bhagwat Geeta in Hindi PDF Free Download

Bhagwat Geeta in Hindi PDF Free Download को आप यहा से Free में Download कर सकते है! श्रीमद्भागवत् गीता हिदुओं के पवित्रम ग्रन्थ में से एक है! यह वह पवित्र ग्रन्थ है जिसमे दुनिया के सारे रहस्य छुपे हुए है! यह महाभारत के भीष्मपर्व के अन्तर्गत दिया गया एक उपनिषद् है। आज के समय में हमारी आधुनिक समाज की उदासीनता या फिर उन्हें इस कल्चर का प्रभाव माने, आज के समय में हिन्दुओ को ग्रंथो के बारे में बहुत कम जानकारी है! बहुत सारे लोगो को ये भी नही पता है की हिन्दुओ के कितने ग्रन्थ है, अगर आपको विश्वास नही है तो आप अपने घर में या आस पास में पूछ सकते है, आपको वो ठीक तरीके से उत्तर नही दे सकते है! और आज के समय में सबसे बड़ा कारण यह है की लोग हिन्दू बनने के जगह पर लोग सेक्युलर बनते जा रहे है!

आज के समय में वही लोग सभी धर्मो को एक बताते है, जो अपने धर्म के बारे में नही जानते है! आज के समय में लोग Bhagwat Geeta के बारे जानते है तो बस इतना जानते है की वो हमारा कोई ग्रन्थ है! और यह हमारे हिन्दू समाज के लिए बिल्कुल ही घातक है! आज के युवा पीढ़ी को Bhagwat Geeta को जरुर पढना चाहिए क्योकि वो अपने आने वाले पीढ़ी को अपने धर्म के बारे में कुछ नही बता पायंगे और ना ही वो उनका चरित्र निर्माण कर पायेगे ! इसलिए आज हम Bhagwat Geeta Hindi PDF दे रहे है, जिसे आप Download करके पढ़ सकते है!

Bhagwat Geeta क्या है?

Shreemad Bhagvat Geeta मानव जीवन से सम्बंधित ज्ञान का एक संकलन है, जो भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को सुनाई थी ! जब महाभारत के युद्ध में अर्जुन विचलित होकर अपने कर्तव्य से विमुख हो रहे थे! यह श्रीमद्भागवत् गीता का उपदेश आज से लगभग ७००० हजार वर्ष पूर्व सुनाई गयी थी! और इसकी सबसे बढ़ी खासियत यह है की आज के समय में उतना ही प्रसांगिक और प्रभावशाली है, जितना की उस समय में है, अगर किसी को भागवत गीता का कोई अंश आपको समझ में नही आ रहा है या फिर आपको लगता है की वो गलत है, तो आप ये समझ लीजिये की अभी तक आप उसे समझने के लायक नही है, अभी अपने आप को और तैयार कीजिये ! भागवत गीता तब तक प्रसांगिक रहेगा जब तक इस धरती पर मानव जीवन है!

यह गीता उपदेश रविवार के दिन कुरुक्षेत्र में सुनाया गया था! और उस एकादशी का दिन था, इसलिए हिन्दू धर्म में एकादशी को इतना पवित्र दिन माना जाता है! पुराणों के अनुसार गीता उपदेश 45 मिनट में सुनाई गयी थी! यह उपदेश श्रीकृष्ण ने अर्जुन को कर्तव्य सीखाने के लिए और अपने आने वाले पीढियों को धर्मज्ञान देने के दिया गया था!

Bhagwat Geeta in Hindi PDF

श्रीमद्भागवत् गीता में कुछ १८ अध्याय है और इसमें कुल ७०० श्लोक है! इसमें मुख्य रूप से भक्ति, gyan और कर्मयोग मार्गो की विस्तृत व्याख्या की गयी है और इन मार्गो पर चलने से वह व्यक्ति जीवन में सफल बन जाता है! इस गीता उपदेश को कुरुक्षेत्र में केवल अर्जुन के आलावा धृतराष्ट्र और संजय ने ही सूना था! आपको यह जानकर काफी आश्चर्य होगा की, गीता उपदेश अर्जुन से पहले भगवान् सूर्यदेव को दिया गया था!

श्रीमद्भागवत् गीता एक उपनिषद् है जो हमारे ग्रन्थ है, यह महाभारत का ही एक अंश है! श्रीमद्भागवत् गीता का एक प्रमुख सार यह भी है की मनुष्य को किसी भी परिस्थिति में घबराना नही चाहिए और ना ही उसे अपने कर्तव्य से विमुख होना चाहिए! जीत हमेशा सत्य को होती है और परिवर्तन ही संसार का नियम है!

Bhagwat Geeta Saar in Hindi | भागवत गीता सार

भागवत गीता में कुल 18 अध्याय है, यह संस्कृत में परमात्मा द्वारा दी गयी थी! समय के साथ संस्कृत भाषा लोगो के जिन्दगी से दूर होती चली गयी, और यह भागवत गीता का ज्ञान मनुष्य से दूर हो गया ! समय के साथ – साथ भागवत गीता को सरल भाषा में अनुवाद किया गया ! इसी कोशिश को आगे बढ़ाते हुए हम आपको भागवत गीता का संक्षिप्त सार आप सभी के सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ !

ये ज्ञान भगवान श्री कृष्ण ने सबसे बड़े धर्म युद्ध महाभारत के रणभूमि कुरुक्षेत्र में अर्जुन को दिया था ! यह वह वक्त था जब धर्म का बार बार उलंघन हुया ! परमात्मा का डर मनुष्य से निकल गया ! लालच के होड़ में भाई ने भाई को मरने को कोशिश की, और यहीं नही एक स्त्री को भरी सभा में अपमानित किया गया !

भागवत गीता को युद्ध से कुछ समय पहले भगवान् श्री कृष्ण में मानव कल्याण के अर्जुन को दिया ! यह किताब परमात्मा के द्वारा दिया गया किताब है, यह मानव कल्याण के लिए है, यह उन कायदे को समझाती है जिसे मनुष्य के आत्मा को हरहाल में पालन करना होता है !

इन्ही कायदों के बुनियाद पर आत्मा को शरीर त्यागने के बाद परखा जायेगा, और इस परीक्षा में पास होने पर आपको हमेशा के लिए जन्म और मरण से मुक्ति मिलेगी !

परमात्मा भागवत गीता में कहते है की मैं ही सबकी शुरुआत हूँ ! मैं सब शुरू होने पहले था और सब ख़त्म होने के बाद भी रहूँगा! सब मुझमे है और मैं सबमें हूँ ! जो भी तुम देख सकते , छू सकते हो , महसुस कर सकते हो, चख सकते हो, सूंघ सकते हो वो सब मैं हूँ !

ये नदिया पहाड़ , चाँद सितारे सब मैंने बनाए है, मैंने ही मनुष्य, भगवान् , शैतान और राक्षस बनाये है ! मैं सर्वव्यापी हूँ मैं सब में रहता हूँ, सब में मैं हूँ , मैं ही हूँ! जो बनता हूँ मैं बनाता हूँ, जो नष्ट करता हूँ मैं ही नष्ट करता हूँ! मैं तोड़ता बनाता इसलिए हूँ ताकि आत्माओ को मौके मिल सके मोक्ष पाने को , परमात्मा के साथ हमेशा रहने के लिए !

भागवत कहती है की इस सबसे बड़ी परीक्षा के लिए परमात्मा ने प्रकृति का निर्माण पांच तत्व – हवा, अग्नि , मिट्टी, जल, और पृत्वी से किया ! लेकिन परमात्मा इन सब से परे है, खुद अर्जुन को भगवान् कृष्ण को देखने के लिए दिव्य नेत्र प्रदान किये तब अर्जुन भगवन श्री कृष्ण का दर्शन कर पाए थे !

भागवत गीता कहती है की आत्मा अमर है, उसे ना कोई पैदा कर सकता है ना कोई मार सकता है! लेकिन उसे परमात्मा के साथ रहने के लिए उसे इस कठिन परीक्षा को पास करना जरुरी है!

भागवत गीता पढने के लाभ

भागवत गीता का पाठ कैसे करना चाहिए और इसे कब पढना चाहिए, इनके भी कई नियम होते है, जिसके बारे में आप सभी को जानना बहुत ही जरुरी है,

गीता शब्द अर्थ है गीत और भागवत शब्द का अर्थ होता है भगवान् !

गीता को भगवान् का गीत कहा जाता है, भागवत गीता में खुद कहा गया है किस इसे पढ़ने और सुनने का कोई नियम नही है! इसे आप कभी भी पढ़ सकते है! इसका अगर आप नित्य पाठ करते है तो इससे आपको मन को शांति और आपका जीवन सुखमय होता है !

गीता का पाठ करने से आपको मोक्ष की प्राप्ति होती है ! इसका पाठ करने से आपको बड़े से बड़े समस्या का हल मिल जाता है! इसके पाठ करने से आपको धर्म की रक्षा और मानव कल्याण के लिए काफी उपयोगी है!

भागवत गीता के श्लोक

नैनं छिद्रन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावक: ।
न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुत ॥
(द्वितीय अध्याय, श्लोक 23)

यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत:।
अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम्॥
(चतुर्थ अध्याय, श्लोक 7)

परित्राणाय साधूनाम् विनाशाय च दुष्कृताम्।
धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे-युगे॥
(चतुर्थ अध्याय, श्लोक 8)

क्रोधाद्भवति संमोह: संमोहात्स्मृतिविभ्रम:।
स्मृतिभ्रंशाद्बुद्धिनाशो बुद्धिनाशात्प्रणश्यति॥
(द्वितीय अध्याय, श्लोक 63)

Bhagwat Geeta in Hindi PDF Download

हम आपको यहा पर Bhagwat Geeta in Hindi PDF में दे रहे है, जिसे आप यहा से Download करके पढ़ सकते है! यहा पर कुछ साधारण हिंदी में उपलब्ध है तो कुछ जैसा गीता लिखा गया है ठीक उसी प्रकार से आपको PDF के रूप पे उपलब्ध करा दिया गया है!

bhagwat geeta
bhagwat geeta in hindi
bhagwat geeta pdf
shrimad bhagwat geeta
bhagwat geeta in hindi pdf
bhagwat geeta quotes
bhagwat geeta in english
who wrote bhagwat geeta
bhagwat geeta book
bhagwat geeta book in hindi pdf download
bhagwat geeta shlok
bhagwat geeta hindi
read bhagwat geeta in hindi
shrimad bhagwat geeta in hindi
bhagwat geeta in english pdf
shreemad bhagwat geeta
bhagwat geeta pdf in hindi
bhagwat geeta quotes in hindi
bhagwat geeta saar hindi
shrimad bhagwat geeta in hindi pdf
bhagwat geeta youtube