Durga Saptashati Pdf Download

Durga Saptashati

आज के आर्टिकल में Durga Saptashati Pdf देने वाले हैं ,और साथ ही मै आप लोगो को ये बताने वाले हैं कि इस दुर्गा सप्तशती पाठ के क्या फायदे हैं, दुर्गा सप्तशती पाठ क्यों करना चाहिए, दुर्गा सप्तशती पाठ में किसका पूजा किया जाता है , इसका पूजा कैसे किया जाता है ! तो चलिए जानते हैं कि दुर्गा Durga Saptashati Pdf कैसे डाउनलोड करेंगे !

दुर्गा सप्तशती पाठ के क्या है?

श्री व्यासजी द्वारा रचित महापुराणों में से एक दुर्गा सप्तशती पाठ एक ग्रंथ है ,जिसे पढ़ने या पाठ करने किसी भी प्रकार का रोग से नवारण एवं कष्ट से मुक्ति मिलता है !


दुर्गा सप्तशती पाठ ग्रंथ में दुर्गा सप्तशती का 360 शक्तियों का वर्णन किया है, दुर्गा सप्तशती में 13 पाठ है एवं 700 श्लोक है , 700 श्लोकों को तीन भागों में बांटा गया है ! दुर्गा सप्तशती पाठ में महासरस्वती , महालक्ष्मी और महाकाली की महिमा के गुणों का वर्णन किया गया है

दुर्गा सप्तशती की पूजा कैसे किया जाता है?

जो भी व्यक्ति इनका पूजा अर्चना करेंगे ,वो अच्छे तरीके से स्नान करके पूरी तरह से स्वच्छ हो ले ! तत पश्चात् जिस जगह पर पूजा करना हैं उसे अच्छे तरीके धो लें फर्स को अच्छी तरह से स्वच्छ कर ले ,शुद्ध आसन बनाकर बैठ जाएँ, शुद्ध जल साथ में लेकर बैठें, पूजन सामग्री और श्री दुर्गा सप्तशती की पुस्तक साथ में रखें, माथे पर अपनी पसंद के भस्म या चंदन अथवा रोली लगा लें , तब पूजा का शुभारम्भ करें!

दुर्गा सप्तशती पाठ करते समय किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ?

दुर्गा सप्तशती पाठ करते समय सबसे पहले तो मन को साफ रखना चाहिए, मन में किसी प्रकार द्वेष एवं क्लेश नहीं रहना चाहिए, मन में किसी प्रकार का छल कपट नहीं होना चाहिए! पूजा एकदम सचे भाव से करना चाहिए , पूजा करते समय एक एक वाक्य को अच्छी से उच्चारण करना चाहिए क्योंकि उच्चारण करते समय अगर गड़बड़ हुई तो अर्थ का अनर्थ हो जाता है !


बात रामायण काल का है जब रावण ने मां दुर्गा का यज्ञ कर रहा था तब हनुमान जी ने ”ह” के जगह पर ”क” उच्चारण करवा दिया था , जिस वजह से रावण नें ‘हरणी” के स्थान पर ”करणी” का उच्चारण कर दिया, फल स्वरुप रावण को एक उच्चारण गलत होने के वजह से उसे गलत परिणाम भुगतना पड़ा था ! इसीलिए पाठ करते समय एक एक बातो का ध्यान रखना चाहिए !

दुर्गा सप्तशती पाठ के क्या फायदे हैं?

दुर्गा सप्तशती पाठ करने के बाद बहुत सारे फायदे होते, सबसे पहले तो इसको करने के बाद आपका शरीर स्वास्थ रहेगा , भय मुक्त होगा, रोग मुक्त होगा, धन का लाभ मिलेगा , किसी प्रकार का बाधा में निवारण , पुत्र की प्राप्ति होगा, !
अलग अलग बाधाओं के निवारण हेतु अलग अलग उपाय दिया गया है !

  • प्रथम अध्याय के न‌िय‌िम‌ित पाठ करने से च‌िंताओं से मुक्त‌ि म‌िलती है !
  • दूसरे अध्याय के पाठ करने से कोर्ट केस और व‌िवादों में व‌िजय प्राप्त होती है! लेक‌िन देवी उन्हीं की सहायता करते हैं जो सच्चे और ईमानदार होते हैं !
  • तीसरे अध्याय का पाठ करने से शत्रु और व‌िरोध‌ियों से छुटकारा मिलता है !
  • चतुर्थ अध्याय का पाठ करने से मां दुर्गा की भक्त‌ि और कृपा दृष्ट‌ि बनी रहती है !
  • पांचवें अध्याय के पाठ करने से देवी की असीम अनुकंपा प्राप्त होती है, देवी मां भक्तों की समस्या दूर करती है !
  • छठे अध्याय के पाठ करने से भय, शंका, ऊपरी बाधा से मुक्त‌ि म‌िलती है !
  • सातवे अध्याय के पाठ करने से व‌िशेष मनोकामना पूर्ण होता है !
  • आठवे अध्याय के पाठ करने से मनचाहा प्रेम की प्राप्त होता है!
  • नवमें अध्याय का पाठ करने से खोए हुए व्यक्त‌ि को वापस लाना और संतान सुख के ल‌िए कारगर होता है !
  • दसवें अध्याय शुंभ वध की कथा है, इस अध्याय का पाठ करने से रोग, शोक का नाश होता है !
  • ग्यारहवें अध्याय का पाठ करने से व्यापार में लाभ एवं सुख शांत‌ि की प्राप्त‌ि होती है!
  • बारहवें अध्याय के पाठ करने से मान-सम्मान एवं सुख संपत्त‌ि का लाभ म‌िलता है !
  • तेरहवें अध्याय के पाठ करने से देवी की भक्त‌ि एवं कृपा दृष्ट‌ि प्राप्त होती है !

Download Durga Saptashati Pdf

इस Durga Saptashati Pdf को डाउनलोड करने के लिए आप नीचे दिए गये लिंक से क्लिक करके डाउनलोड कर सकते है ! या फिर आप इसे खरीद कर भी पढ़ सकते है !

Durga Saptashati Pdf Click to Download
Durga Saptashati PdfBuy on Amazone

Disclaimer :- हिन्दी ज्ञान किसी भी प्रकार से पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, पायरेसी करना गैरकानूनी है, अगर किसी को भी इस pdf से आपति है तो वह मुझसे सम्पर्क कर सकता है, मैं तुरंत इसके ऊपर निर्णय लूँगा !