ESR Test in Hindi | ESR Test Report | ESR Test Normal Range Full Details

ESR Test in Hindi एक रूटीन टेस्ट होता है, इस टेस्ट से हमे कोई गंभीर बीमारी का पता नही चलता है ये ESR Test हमे बताता है की हमारे बॉडी में कोई स्वेलिंग या इन्फेक्शन है या नही है! यदि टेस्ट रिपोर्ट में ESR का वैल्यू बढ़ा हुआ होता है तो डॉक्टर हमें दूसरा टेस्ट कराने को कहता है!

ESR Test कराना बहुत जरुरी होता है, इससे आपके बॉडी में हो रहे संक्रमण का पता चलता है और आपको सही समय में उचित इलाज मिल जाता है! ESR से कोई विशेष बीमारी नही पकड़ में आती है लेकिन इसके परिक्षण से आपको संकेत जरुर मिल सकते है!

What is ESR Test in Hindi?

ESR Test in Hindi
ESR Test in Hindi

ESR का मतलब Erythrocyte Sedimentation Rate होता है, यह एक रूटीन टेस्ट होता है! इसमें आपके RBC (Red Blood Cell) का बारीकी से परिक्षण किया जाता है और पता लगाया जाता है की आपके बॉडी में कोई इन्फेक्शन, सुजन या किसी भी प्रकार की कोई स्वेलिंग तो नही हो रही है!

हमने आपको बहुत ही अच्छे तरीके से ईएसआर टेस्ट ( ESR Test in Hindi ) को हिंदी में बताया है, यहाँ पर आपको इसके बारे में विस्तार से सभी जानकारियाँ मिलेगी!

ESR मुख्यतः तीन शब्दों से मिलकर बना है,

ESR Full Form = Erythrocyte Sedimentation Rate होता है! और ESR का हिंदी लालरक्तकण अवसादन दर होता है!

E = Erythrocyte

S = Sedimentation

R = Rate

ESR Test क्यों करवाना चाहिए?

हमारे शरीर में खून का लगातार संचार होता रहता है, इसमें लगातार RBC घूम रही होती है! जब हमारे शरीर में कोई दिक्कत आती है तो RBC में कुछ दिक्कत होने लगती है, यानी वो settle down होने लगती है!
Settel Down का मतलब RBC नीचे बैठेने लगती है, और वो कितनी तेजी से नीचे बैठ रहा है उसी का पता लगाने के लिए हम ESR Test को करवाते है ताकि हमें RBC के settle down होने के Value का पता लगाया जा सके !

How to ESR Blood Test in Hindi

ESR Blood Test in Hindi

ESR test करवाने के लिए इसमें मरीज का Blood sample लिया जाता है, इसे आप दिन में कभी भी दे सकते है! इसके लिए आपको खाली पेट होना या कोई परहेज करने की जरूरत नही होती है!

इसमें मरीज के ब्लड सैंपल को एक पतली परखनली में डाला जाता है और उसे 1 घंटे तक परखा जाता है और यह देखा जाता है की वह 1 घंटे में RBC कितना नीचे बैठा है! एक घंटे में जितना RBC नीचे बैठता है उसकी Value को काउंट किया जाता है! इससे हमें मरीज के ESR Value का पता चलता है!

Two Types used to measure ESR Value in Hindi

ESR Blood Test के लिए हम दो तरोको का इस्तेमाल करते है! जिससे हमें ESR Value का पता चलता है और आपको कौन से तरीके से ESR Test करना सही रहता है, इससे आपको पता चल जायेगा !

  • Westergren methode
  • Wintrobe methode

इसमें सबसे ज्यादातर लैब में हम Westergren methode ला इस्तेमाल करते है क्योकि इसका ESR Report ज्यादा अच्छा होता है!

अलग – अलग लैब में हम अलग – अलग तरीके से ESR Test करते है जिसमे अलग अलग वैल्यू भी आती है! जिससे कभी कभी डॉक्टर हमें दोबारा से टेस्ट करवाने को कहते है, जिससे हमें सही ESR Value का पता चल सके!

ESR Normal Value हर उम्र के व्यक्ति में अलग अलग हो सकता है और यहाँ ताकि यह महिला और पुरुष में एक उम्र में अलग अलग हो सकता है! और बच्चो में भी ESR Value अलग होती है!

ईएसआर का सामान्य वैल्यू (esr test normal range)

Humen RangeESR Normal Value
Male Below 50 Year0-15 mm/hr
Female Below 50 Year0-20 mm/hr
Male above 50 Year0-20 mm/hr
Female above 50 Year0-30 mm/hr
Child Below 15 Year0-10 mm/hr
ESR Normal Test Value

ESR Test Price | ईएसआर टेस्ट कितने रूपये में होता है!

ESR परिक्षण कराने के लिए आपको किसी लैब में जाना होता है, वहा पर नार्मल Test के लिए आपको 150 रूपये से लेकर आपको 200 रूपये देने होते है ! यह प्राइस आपके लोकेशन के हिसाब से बढ़ या घट भी सकता है!

इन्हें भी पढ़े – P 650 Tablet : Uses, Side Effects, Price

ईएसआर बढ़ने और घटने पर क्या होगा | ESR Value Means in Hindi

ESR Value के बढ़ जाने या घट जाने पर इन्सान को बहुत सारी बीमारियाँ हो जाती है! आपको घट जाने पर कौन – कौन सी बीमारियाँ हो सकती है और बढ़ जाने पर कौन – कौन सी बीमारियाँ हो सकती है !

Low ESR से होने वाली बीमारियाँ

कन्जेस्टिव हार्ट फ्लोयर (Congestive heart failure (CHF)

क्रोनिक फैटिग्यू सिन्ड्रोम (Chronic fatigue Syndrome)

लॉ प्लाज्मा प्रोटीन (Low plasma protein)

सिक्कल सेल एनिमिया (Sickle Cell Anemia)

टेम्पोरल आर्थेराइटिस (Temporal arthritis)

क्रैनियल धमनी (Cranial arteries)

प्रोटीन फिबरिनोजन (Protein fibrinogen)

एलर्जी (Allergie)

हड्डियों में संक्रमण (Bone Infection)

ट्यूबर क्लोसिस (TuberCulosis (T.B)

High ESR से होने वाली बीमारियाँ

एनिमिया (Anemia)

हाई कोलेस्ट्राल (High Cholestrol)

किडनी बीमारी (Kidney disease)

थॉयराइड बीमारी (Thyroid disease)

High ESR Symptoms in Hindi

Hign ESR होने के बहुत सारे लक्षण होते है लेकिन आज मैं आपको कुछ मुख्य लक्षण बता देता हूँ, जिससे आप यह आसानी से समझ सकते है की आपका ESR बढ़ा हुआ है!

  • जोड़ों में दर्द (Joint Pain) या जकड़न (Stiffness)
  • सिर दर्द (head ache) के साथ-साथ कंधों में दर्द (Pain in Shoulder)
  • गर्दन, कंधे में दर्द
  • डायरिया (Diarrhea)
  • बुखार (Fever)
  • मल में खून आना (Blood Comes in your Stool)
  • अचानक पेट में दर्द होना आदि।
  • शरीर में संक्रमण (Infection) और सूजन (Swelling) का बढ़ना।
  • हड्डियों में संक्रमण (Bone Infection)
  • शरीर में जकड़न (Bone Stiffness)
  • शरीर का तापमान बढ़ना
  • किडनी की बिमारी (Kideney disease)
  • बेचैनी (Restlessness)  

How to Prevent High ESR Value in Hindi

अपने आप को High ESR के बचने के लिए कोई स्पेशल ट्रीटमेंट लेने की जरुरत नही होती है, इसके लिए आप घरेलु उपाय भी कर सकते हो जो की बहुत ही ज्यादाकारगर होता है!

व्यायाम – High ESR Rate को कम करने के लिए आपको रोजाना कम से कम 30 मिनट का व्यायाम करना चाहिए, इससे आपका शरीर फुर्ती आती है! आपके शरीर सुजन कम होने लगता है! आप रोजाना दौड़ सकते है, टहल सकते है और अगर आप Gym जाना चाहते है तो आप Gym में भी जा सकते है!

योगा- अगर आप व्यायाम करने में सक्षम नही तो आप योगा करके भी अपने हाई ईएसआर वैल्यू को कम कर सकते है, आप योग निद्रा या अनुलोम विलोम कर सकते है, इसे करना बहुत ही आसान है!

  1. सबसे पहले आपको एक चटाई या गद्दा लेना है और आराम से उसपर लेट जाना है!
  2. फिर आराम से स्वास अंदर ले और आराम से स्वास को बाहर छोड़े!
  3. इस योगा के दौरान अपने शरीर को हिलाए नही!

मसालेदार खाने से परहेज – आपको ज्यादा मसालेदार खाना खाने और मीठा खाने से बचना चाहिए, इससे आपका कोलेस्ट्रोल बढ़ जाता है जिससे ESR बढ़ने का ख़तरा रहता है और शरीर में सुजन भी बढ़ सकती है!

हरी सब्जी और सुपाच्य भोजन करे- अगर आपको स्वस्थ रहना है, तो आपको हमेशा सुपाच्य भोजन करना चाहिए, हमेशा हरी सब्जियों का सेवन ज्यादा करना चाहिए, इससे आपके शरीर में कभी भी मिनरल्स की कमी नही होती है और इससे आपका ईएसआर हमेशा सही रहता है!

हरी सब्जी और फल में आप- टमाटर, स्ट्राबेरी, संतरा, इत्यादि फल फुल का सेवन कर सकते है!

ज्यादा पानी पीये – स्वस्थ मनुष्य को रोजाना २ से ५ लीटर तक पानी पीना चाहिए, पानी हमारे शरीर को  हाइड्रेट करता है जिसके कारण मांसपेशियां और हड्डियाँ खराब नहीं होती है और शरीर की सूजन कम होती है इसलिए 1 से 5 लीटर पानी रोज पीये।

Home Remedies to Reduce High ESR Level in Blood in Hindi (ईएसआर रेट को कम करने के घरेलू उपाय)

अगर आप घर पर ईएसआर रेट को कम करना चाहते है तो आप आसानी से ईएसआर लेवल को कम कर सकते है! इसके लिए आपको डॉक्टर के पास जाने की जरुरत नही है तो आइये जानते है की वे कौन से घरेलु नुस्के है जिसकी मदद से हम ईएसआर रेट को कम कर सकते है!

हल्दी के इस्तेमाल से – अगर आपका ईएसआर काफी बढ़ गया है तो हल्दी का सेवन आपको इसमें काफी लाभदायक होता है! हल्दी में एंटी बायोटिक गुण होते हैं जो ई.एस.आर को कम करने में रामबाण का काम करती है।

रात को सोते समय आप एक छोटा चम्मच हल्दी को दूध में मिलाकर पीने से आपकी हड्डियों में फैली संक्रमण दूर होती है और शरीर सुजन कम होता है, इससे आपका ईएसआर काफी कम हो जाता है!

मेथी से ईएसआर का उपचार– शरीर में फैली किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन को दूर करने और प्रतिरोधक क्षमता को बढाने के लिए हम मेथी का इस्तेमाल करते है! आपको लगातार पन्द्रह दिन एक एक छोटे से गिलास के पानी में एक चम्मच मेथी को उबलना है और ठंडा करके उसे पीना है!

इससे आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढती है और आपके शरीर में फैली सुजन कम होती है जिससे आपका ईएसआर लेवल कम होने लगता है!

When to Contact a Doctor?

अगर आपके शरीर का सुजन लगातार बढ़ रहा है और किसी भी घरेलु उपाय से आपका ईएसआर लेवल कम नही हो रह है तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए!

Tags –

esr test
esr blood test
esr test in hindi
esr test means
esr in blood test
esr test normal range
what is esr test
esr blood test meaning

Leave a Comment