Gajendra Moksha Stotra Pdf Download in Hindi

Gajendra Moksha Stotra भागवत महापुराण का एक शानदार भक्ति भजन है ! इसे हाथियों के राजा गजेंद्र ने भगवान विष्णु को संबोधित किया है ! Gajendra Moksha Stotra उपनिषदों में निहित ज्ञान और वैराग्य के ज्ञान को अलंकृत करता है !

Gajendra Moksha Stotra का उल्लेख श्रीमद्भागवत के 8वें स्कंद और तीसरे अध्याय में किया गया है ! मगरमच्छ की मौत के चंगुल से बचाने के लिए भगवान विष्णु गजेंद्र के आह्वान पर धरती पर आते हैं !

What is Gajendra Moksha Stotra ?

Gajendra Moksha Stotra
Gajendra Moksha Stotra

ऐसा माना जाता है कि जो कोई भी इस स्तोत्र का पाठ करता है उसे जीवन में किसी भी कठिनाई का सामना करने और अवांछित परिस्थितियों से बाहर निकलने की शक्ति मिलती है !

कहानी झीलों और नदियों से घिरी त्रिकोटा पर्वत की एकांत घाटियों के बीच उकेरी गई है, और इसमें एक सुंदर बगीचा था जो महासागरों के भगवान वरुण का था ! एक बार हाथियों का एक परिवार अपने विशाल प्रमुख गजेंद्र के नेतृत्व में बगीचे में प्रवेश किया और पानी पीने और उन्हें ठंडा करने के लिए एक बड़ी झील में बना दिया !

हुआ यूं कि जब गजेंद्र सरोवर के पानी में नहा रहा था तभी एक मगरमच्छ आया और उसका एक पैर पकड़कर पानी में घसीटने लगा. अन्य साथी हाथियों ने गजेंद्र को मगरमच्छ के चंगुल से बाहर निकालने की कोशिश की, लेकिन वे उसे नहीं निकाल पाए ! एक भयंकर रस्साकशी शुरू हुई, जिसने गजेंद्र को शरीर और आत्मा से थका दिया ! संघर्ष काफी देर तक चलता रहा !

गजेंद्र ने महसूस किया कि वह एक हारी हुई लड़ाई लड़ रहा है ! सभी साथी हाथी धीरे-धीरे पीछे हट गए, और गजेंद्र अकेला रह गया ! वह एक बड़े कबीले का नेता था लेकिन अंत में सभी ने उसे छोड़ दिया ! गजेंद्र ने महसूस किया कि केवल भगवान विष्णु ही उन्हें मृत्यु के चंगुल से बचा सकते हैं ! वह सबका आश्रय है ! गजेंद्र ने कहा, “यह भगवान विष्णु के लिए है कि अब मैं खुद को आत्मसमर्पण करता हूं !”

गजेंद्र ने गाया, “मैं आपकी शरण लेता हूं, हे! भगवान ! मुझे उस ठिकाने पर ले चलो जहां काला मुझे फिर कभी नहीं पकड़ सकता !

Call of Gajendra

गजेन्द्र अपनी वर्तमान स्थिति बताने लगा ! उसने वर्णन करना शुरू किया कि वह क्या सोचता है कि भगवान कैसा है ! उन्होंने गौरवशाली ईश्वर को मानसिक नमस्कार किया, जिसे ओम के प्रतीक द्वारा दर्शाया गया है !

गजेंद्र ने कहा, “यद्यपि आप किसी भी रूप से रहित हैं, आप सभी प्राणियों में मौजूद हैं ! इस लौकिक संसार का अस्तित्व आपकी शाश्वत उपस्थिति की ओर इशारा करता है ! आप हर चीज के कारण हैं, और फिर भी, आप बिना कारण के हैं !”

गजेंद्र ने आगे कहा, “कृपया मुझे संसार (मगरमच्छ) के चंगुल से मुक्त करें ! मुझे अज्ञान के अन्धकार से मुक्त करो ! मुझ पर परमात्मा के ज्ञान के आध्यात्मिक प्रकाश की वर्षा करो !”

गजेंद्र ने कहा, “मैं आपको नमन करता हूं !”

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि गजेंद्र ने किसी विशिष्ट नाम से भगवान को नहीं पुकारा ! उन्होंने अपनी प्रार्थना को सर्वोच्च ईश्वर को संबोधित किया, जो किसी भी रूप और अभिव्यक्ति से परे है ! इसलिए, अन्य कोई भी देवता या देवता (ब्रह्मा की तरह) उनके बचाव में नहीं आए क्योंकि उन सभी ने एक विशेष नाम और रूप के साथ अपनी पहचान बनाई ! केवल सर्वोच्च भगवान नारायण, जो सभी अभिव्यक्तियों से परे हैं, उन्हें मुक्त करने के लिए अपने पक्षी गरुड़ पर बैठे थे !

जब भगवान नारायण उनके बचाव में आए, तो गजेंद्र ने एक कमल उठाया और भगवान को अर्पित कर दिया ! इस प्रकार भगवान विष्णु ने गजेंद्र को मगरमच्छ के चंगुल (संसार या “माया”) से बचाया ! गजेंद्र ने मोक्ष या जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्ति प्राप्त की !
यह कहानी शुक ने राजा परीक्षित को सुनाई थी !

Symbolic Meaning of Gajendra Moksha Stotra

  • गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का हिंदू दर्शन में एक जबरदस्त प्रतीकात्मक मूल्य है ! यहां गजेंद्र मनुष्य का प्रतिनिधित्व करता है, मगरमच्छ पाप है, और झील का गंदा पानी संसार या माया है !
  • मनुष्य सांसारिक इच्छाओं और पापों में जकड़ा हुआ है और इस दुनिया में “कर्म” की अंतहीन श्रृंखला से बंधा हुआ है ! वे मृत्यु और पुनर्जन्म के निरंतर चक्र में फंस जाते हैं !
  • केवल भगवान के प्रति वफादार भक्ति के माध्यम से वे जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं ! उन्हें इस सृष्टि की हर चीज से परे देखना होगा और खुद को सर्वोच्च व्यक्ति, भगवान विष्णु के सामने प्रस्तुत करना होगा !

Gajendra Moksha Stotra Benefits

  • ऐसा माना जाता है कि गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का जाप आपको जीवन में किसी भी कठिनाई को दूर करने में मदद करता है !
  • गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का जाप करने से आप अवांछित परिस्थितियों से आसानी से बाहर आ सकते हैं !
  • श्रीमद्भागवतम में, ऋषि सुखदेव गोस्वामी कहते हैं कि जो कोई भी भगवान विष्णु के रूप का ध्यान करता है और गजेंद्र हाथी द्वारा की गई इस प्रार्थना को पढ़ता या सुनता है ! भौतिक कष्टों से मुक्ति का अवसर मिलेगा ! तो, गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का जाप आपको भौतिक दुखों से मुक्त होने में मदद करेगा !
  • गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का जाप करने से आपको अपने कर्ज के मुद्दों को दूर करने में मदद मिलेगी ! आपको अपने दुखों को दूर करने के लिए आध्यात्मिक शक्ति मिलेगी !
  • गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का जाप आपके जीवन में सकारात्मकता लाता है ! आप सर्वोच्च होने के प्रति समर्पण विकसित करेंगे ! गजेंद्र मोक्ष एक शक्तिशाली भक्ति भजन है ! यह आपको पूरी तरह से भगवान विष्णु के चरणों में आत्मसमर्पण करने की शक्ति प्रदान करता है !
  • जीवन में आप जिस भी कठिन परिस्थिति का सामना करते हैं, गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का जाप आपको आपकी कठिन परिस्थिति से मुक्ति दिलाएगा !
  • आपको गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का जाप करना चाहिए सच्ची भक्ति होगी ! इसका नित्य जाप आपको जीवन के इस युद्ध में विजयी होने की शक्ति देगा !
  • यह आपको भगवान विष्णु के प्रति भक्ति विकसित करने में मदद करता है, जो आपकी कठिन परिस्थिति में आपकी रक्षा करेंगे ! लेकिन सत्य का मार्ग नहीं छोड़ना चाहिए ! भगवान विष्णु में आस्था रखनी चाहिए !
  • गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का जाप आपके जीवन से नकारात्मकता, दुखों और दुखों को दूर करता है ! आप खुशी और आनंद से भरा जीवन जीने लगते हैं !
  • ऐसा कहा जाता है कि गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र के जाप से आपकी जन्म कुंडली से पितृ दोष दूर हो जाता है ! यह आपको अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने में मदद करता है ! यह आपको अपने पापों को दूर करने और एक पवित्र और पूर्ण जीवन जीने की अनुमति देता है !
  • गजेंद्र मोक्ष का पाठ शुरू करने से पहले भगवान विष्णु के चरणों में घी का दीया चढ़ाने की सलाह दी जाती है ! जाप के लिए सबसे अच्छा समय ब्रह्म मुहूर्त है ! गजेंद्र मोक्ष स्तोत्र का पाठ करते समय आपका मुख पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए !

Gajendra Moksha Stotra

ओं नमो भगवते तस्मै यत एतच्चिदात्मकम
पुरुषायादिबीजाय परेशायाभिधीमहि ||

यस्मिन्निदं यतश्चेदं येनेदं य इदं स्वयम
योऽस्मात्परस्माच्च परस्तं प्रपद्ये स्वयम्भुवम ||

यः स्वात्मनीदं निजमाययार्पितं क्वचिद्विभातं क्व च तत्तिरोहितम
अविद्धदृक्साक्ष्युभयं तदीक्षते स आत्ममूलोऽवतु मां परात्परः ||

कालेन पञ्चत्वमितेषु कृत्स्नशो लोकेषु पालेषु च सर्वहेतुषु
तमस्तदासीद्गहनं गभीरं यस्तस्य पारेऽभिविराजते विभुः ||

न यस्य देवा ऋषयः पदं विदुर्जन्तुः पुनः कोऽर्हति गन्तुमीरितुम
यथा नटस्याकृतिभिर्विचेष्टतो दुरत्ययानुक्रमणः स मावतु ||

दिदृक्षवो यस्य पदं सुमङ्गलं विमुक्तसङ्गा मुनयः सुसाधवः
चरन्त्यलोकव्रतमव्रणं वने भूतात्मभूताः सुहृदः स मे गतिः ||

न विद्यते यस्य च जन्म कर्म वा न नामरूपे गुणदोष एव वा
तथापि लोकाप्ययसम्भवाय यः स्वमायया तान्यनुकालमृच्छति ||

तस्मै नमः परेशाय ब्रह्मणेऽनन्तशक्तये
अरूपायोरुरूपाय नम आश्चर्यकर्मणे ||

नम आत्मप्रदीपाय साक्षिणे परमात्मने
नमो गिरां विदूराय मनसश्चेतसामपि ||

सत्त्वेन प्रतिलभ्याय नैष्कर्म्येण विपश्चिता
नमः कैवल्यनाथाय निर्वाणसुखसंविदे ||

नमः शान्ताय घोराय मूढाय गुणधर्मिणे
निर्विशेषाय साम्याय नमो ज्ञानघनाय च ||

क्षेत्रज्ञाय नमस्तुभ्यं सर्वाध्यक्षाय साक्षिणे
पुरुषायात्ममूलाय मूलप्रकृतये नमः ||

सर्वेन्द्रियगुणद्रष्ट्रे सर्वप्रत्ययहेतवे
असता च्छाययोक्ताय सदाभासाय ते नमः ||

नमो नमस्तेऽखिलकारणाय निष्कारणायाद्भुतकारणाय
सर्वागमाम्नायमहार्णवाय नमोऽपवर्गाय परायणाय ||

गुणारणिच्छन्नचिदुष्मपाय तत्क्षोभविस्फूर्जितमानसाय
नैष्कर्म्यभावेन विवर्जितागम स्वयंप्रकाशाय नमस्करोमि ||

मादृक्प्रपन्नपशुपाशविमोक्षणाय मुक्ताय भूरिकरुणाय नमोऽलयाय
स्वांशेन सर्वतनुभृन्मनसि प्रतीत प्रत्यग्दृशे भगवते बृहते नमस्ते ||

आत्मात्मजाप्तगृहवित्तजनेषु सक्तैर्दुष्प्रापणाय गुणसङ्गविवर्जिताय
मुक्तात्मभिः स्वहृदये परिभाविताय ज्ञानात्मने भगवते नम ईश्वराय ||

यं धर्मकामार्थविमुक्तिकामा भजन्त इष्टां गतिमाप्नुवन्ति
किं चाशिषो रात्यपि देहमव्ययं करोतु मेऽदभ्रदयो विमोक्षणम ||

एकान्तिनो यस्य न कञ्चनार्थं वाञ्छन्ति ये वै भगवत्प्रपन्नाः
अत्यद्भुतं तच्चरितं सुमङ्गलं गायन्त आनन्दसमुद्रमग्नाः ||

तमक्षरं ब्रह्म परं परेशमव्यक्तमाध्यात्मिकयोगगम्यम
अतीन्द्रियं सूक्ष्ममिवातिदूरमनन्तमाद्यं परिपूर्णमीडे ||

यस्य ब्रह्मादयो देवा वेदा लोकाश्चराचराः
नामरूपविभेदेन फल्ग्व्या च कलया कृताः ||

यथार्चिषोऽग्नेः सवितुर्गभस्तयो निर्यान्ति संयान्त्यसकृत्स्वरोचिषः
तथा यतोऽयं गुणसम्प्रवाहो बुद्धिर्मनः खानि शरीरसर्गाः ||

स वै न देवासुरमर्त्यतिर्यङ्न स्त्री न षण्ढो न पुमान्न जन्तुः
नायं गुणः कर्म न सन्न चासन्निषेधशेषो जयतादशेषः ||

जिजीविषे नाहमिहामुया किमन्तर्बहिश्चावृतयेभयोन्या
इच्छामि कालेन न यस्य विप्लवस्तस्यात्मलोकावरणस्य मोक्षम ||

सोऽहं विश्वसृजं विश्वमविश्वं विश्ववेदसम
विश्वात्मानमजं ब्रह्म प्रणतोऽस्मि परं पदम ||

योगरन्धितकर्माणो हृदि योगविभाविते
योगिनो यं प्रपश्यन्ति योगेशं तं नतोऽस्म्यहम ||

नमो नमस्तुभ्यमसह्यवेग शक्तित्रयायाखिलधीगुणाय
प्रपन्नपालाय दुरन्तशक्तये कदिन्द्रियाणामनवाप्यवर्त्मने ||

नायं वेद स्वमात्मानं यच्छक्त्याहंधिया हतम
तं दुरत्ययमाहात्म्यं भगवन्तमितोऽस्म्यहम ||

Download Gajendra Moksha Stotra

डिस्क्लेमर :- Hindi gyanकिसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है! पायरेसी करना गैरकानूनी है ! अत आप किसी भी किताब को खरीद कर ही पढ़े ! इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे !