Gheranth Samhita Lyrics, Uses , Benefits ! Gheranth Samhita Pdf Download

Gheranth Samhita तिन हठयोग ग्रंथो में सबसे महत्वपूर्ण ग्रन्थ है , इसीकी रचना लगभग 17 वि सताव्दी से आसपास किया गया था ! Gheranth Samhita के अलावा दो और ग्रन्थ हैं हठयोग प्रदीपिका और शिवसंहिता कहा जाता है ! तीनो ग्रंथो में यह सर्वाधिक विशाल एवं परिपूर्ण ग्रन्थ है ! पाणिनि के योग दर्शन में अष्टांग अवधारणा प्राप्त होती है वैसे ही इस ग्रन्थ में सप्तांग योग अवधारणा प्राप्त होता है !

Gheranth Samhita हठयोग का सबसे प्राचीन और प्रथम ग्रन्थ है , जिसमे योग ,परायणं , निति , मुद्रा , आसन , मुद्रा , , निति , धौति आदि क्रियाओं का वर्णन मिलता है !

Gheranth Samhita

Gheranth कौन थे ?

महर्षि Gheranth एक सिद्ध हठयोगी थे ! Gheranth विष्णु जी का बहुत बड़ा भक्त थे , उनकी कृति या लेखन से पता लगता है की वह वैष्णव धर्म को मानने बाले थे ! क्योकि वो अपने ग्रन्थ में ज्यादातर विष्णु जी का ही जिक्र किया है !

Gheranth Samhita क्या है ?

Gheranth Samhita हठयोग पर लिखा गया एक ग्रन्थ है ! जिसे महर्षि Gheranth ने लिखा है ! Gheranth Samhita का निर्माण महर्षि Gheranth और चंड कपालि के बिच के हुए शारीर की स्वास्थ्य चर्चा पर हुई है ! इस ग्रन्थ में ज्यादातर भगवन विष्णु का चर्चा किया गया है , इस ग्रन्थ में एक दो बार नारायण का चर्चा किया गया है ! इस ग्रन्थ में शरीर से लेकर आत्म ज्ञान तक की जानकारी दिए हैं !
कोई भी जगह पर योग विद्या की चर्चा होती हैं वहां पर घेरण्ड संहिता का वर्णन अवश्य होता है !

घेरण्ड संहिता के योग का उद्देश्य

बहुत से ऐसे लोग जो हैं जो योग करना चाहते हैं लेकिन उन्हें कोई भी ऐसे बुक नहीं मिल पाता था , ऐसे में महर्षि घेरण्ड अपनी योग विद्या का किताब का लेखन शुरू कर दिया और अपनी उपदेश से बहुत से लोगो को स्वास्थ ठीक करने में सफल रहे थे ! इसमें योग करने का बहुत बड़ा लाभ बताया गया है ! कोई भी व्यक्ति इस योगबल से उस तत्त्व ज्ञान की प्राप्ति कर सकता है !

घेरण्ड संहिता में योग का स्वरूप :-

महर्षि घेरण्ड ने घेरण्ड संहिता में हठ योग को सबसे बड़ा बल मानते हुए लोगो को तत्त्वज्ञान की प्राप्ति के लिए घेरण्ड संहिता का उपदेश दिया है ! महर्षि घेरण्ड के योग को घटस्थ योग के नाम से भी जानते हैं ! घेरण्ड संहिता को मुख्यतः सात (7) भागो में बाटा गया है , जो इस प्रकार हैं –

  • षट्कर्म
  • आसन
  • मुद्रा
  • प्रत्याहार
  • प्राणायाम
  • ध्यान
  • समाधि !

प्रथम अध्याय :– घेरण्ड संहिता के पहले अध्याय में महर्षि घेरण्ड व चण्डकपालि राजा के बीच हुए बातचीत को दर्शाया गया है ! राजा चण्डकपालि महर्षि घेरण्ड को प्रणाम करते हुए , बोलते हैं की आप मुझे तत्व ज्ञान को प्राप्त करने वाली योग विद्या को बताइए ! तब महर्षि घेरण्ड ने उनकी इच्छा के अनुसार उन्हें योग विद्या का ज्ञान देना प्रारम्भ करते हैं !

योग के सप्त साधनों का वर्णन इसी में किया गया है तथा उनके लाभों की चर्चा भी इसी अध्याय में कीया गया है ! योग के सभी अंगों के लाभ इस प्रकार हैं –

  • षट्कर्म = शोधन
  • आसन = दृढ़ता
  • मुद्रा = स्थिरता
  • प्रत्याहार = धैर्य
  • प्राणायाम = लघुता / हल्कापन
  • ध्यान = प्रत्यक्षीकरण / साक्षात्कार
  • समाधि = निर्लिप्तता / अनासक्त अवस्था
  • षट्कर्म वर्णन :-

षट्कर्म मुख्य रूप से छः भाग हैं ! लेकिन इस किताब आगे उनके अलग – अलग विभाग भी मिलता है ! जो इस प्रकार है –

  • धौति
  • मूलशोधन
  • बस्ति
  • नेति
  • त्राटक
  • लौलिकी

धौति :- धौति के भी चार भाग माने गए हैं ! और आगे उनके भागों के भी विभाग किये जाने से उनकी कुल संख्या 13 हो गई है –

धौति के चार प्रकार :-

  • अन्तर्धौति
  • दन्त धौति
  • हृद्धधौति
  • मूलशोधन !

अन्तर्धौति के प्रकार :-

  • वातसार धौति
  • वारिसार धौति
  • अग्निसार धौति
  • बहिष्कृत धौति !

मूलशोधन :- मूलशोधन धौति के अन्य कोई भाग नहीं किए गए हैं !

बस्ति :- बस्ति के दो प्रकार होते हैं –

  • जल बस्ति
  • स्थल बस्ति !

नेति :- नेति क्रिया के दो भाग किये गए हैं –

  • जलनेति
  • सूत्रनेति !

लौलिकी :- लौलिकी अर्थात नौलि क्रिया के तीन भाग माने जाते हैं –

  • मध्य नौलि
  • वाम नौलि
  • दक्षिण नौलि !

त्राटक :- त्राटक के अन्य विभाग नहीं किये गए हैं ! वैसे इसके तीन भाग होते हैं लेकिन वह अन्य योगियों के द्वारा कहे गए हैं !

  • कपालभाति :- कपालभाति के तीन भाग होते हैं –
  • वातक्रम कपालभाति
  • व्युत्क्रम कपालभाति
  • शीतक्रम कपालभाति !

द्वितीय अध्याय :-

घेरण्ड संहिता के दूसरे अध्याय में आसनों के बारे बताया गया है ! महर्षि घेरण्ड का मानना है कि संसार में जितने भी जीव – जन्तु हैं, उतने ही आसन है ! भगवान शिव के अनुसार चौरासी लाख (8400000) जिव जन्तु है , उस अनुसार 8400000 आसन हुए , उनमें से उन्होंने 32 को ही श्रेष्ठ माना जाता है ! यहाँ पर महर्षि घेरण्ड कहते हैं कि उन 32 श्रेष्ठ आसन अति महत्व पूर्ण होते हैं ! अतः घेरण्ड संहिता में कुल बत्तीस आसनों का वर्णन इस तरह है –

  • सिद्धासन,
  • पद्मासन,
  • भद्रासन,
  • मुक्तासन,
  • वज्रासन,
  • स्वस्तिकासन,
  • सिंहासन,
  • गोमुखासन,
  • वीरासन,
  • धनुरासन,
  • मृतासन / शवासन,
  • गुप्तासन,
  • मत्स्यासन,
  • मत्स्येन्द्रासन,
  • गोरक्षासन,
  • पश्चिमोत्तानासन,
  • उत्कट आसन,
  • संकट आसन,
  • मयूरासन,
  • कुक्कुटासन,
  • कूर्मासन,
  • उत्तानकूर्मासन,
  • मण्डुकासन,
  • उत्तान मण्डुकासन,
  • वृक्षासन,
  • गरुड़ासन,
  • वृषासन,
  • शलभासन,
  • मकरासन,
  • उष्ट्रासन,
  • भुजंगासन,
  • योगासन

तृतीय अध्याय : –

तीसरे अध्याय में योग की मुद्राओं का वर्णनमिलता है ! मुद्राओं का अभ्यास करने से शरीर में स्थिरता आ जाता है ! घेरण्ड संहिता में कुल पच्चीस (25) मुद्राओं का उल्लेख किया गया है !

पच्चीस मुद्राओं के नाम इस प्रकार हैं –

  • विपरीतकरणी मुद्रा,
  • वायवीय धारणा,
  • आकाशी धारणा,
  • अश्विनी मुद्रा,
  • महामुद्रा,
  • नभोमुद्रा,
  • उड्डियान बन्ध,
  • जालन्धर बन्ध,
  • मूलबन्ध,
  • महाबंध,
  • महाबेध मुद्रा,
  • खेचरी मुद्रा,
  • योनि मुद्रा,
  • वज्रोली मुद्रा,
  • शक्तिचालिनी मुद्रा,
  • तड़ागी मुद्रा,
  • माण्डुकी मुद्रा,
  • शाम्भवी मुद्रा,
  • पार्थिवी धारणा,
  • आम्भसी धारणा,
  • आग्नेयी धारणा,
  • पाशिनी मुद्रा,
  • काकी मुद्रा,
  • मातङ्गी मुद्रा,
  • भुजङ्गिनी मुद्रा !

Download Gheranth Samhita

डिस्क्लेमर :- Hindi Gyan किसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है! पायरेसी करना गैरकानूनी है! अत आप किसी भी किताब को खरीद कर ही पढ़े ! इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे !