Gunaho ka Devta Pdf Download ! गुनाहों का देवता डाउनलोड

नमस्कार दोस्तों ,
आज मै आपके लिए लेकर आए बहुत ही मजेदार उपन्यास जो प्रकाशित होने के चन्द दिन में हिन्दी साहित्य के सारे कृतिमान तोड़ डाले , मै बात कर रहा हूं” गुनाहों का देवता ” का ! गुनाहों का देवता जब प्रकाशित हुआ तो लोगों को इतना पसन्द की की थोड़ी ही दिन में सफलता की उचायी को छू लिया ! आज मै आपलोगों को गुनाहों का देवता pdf file देने वाले हैं , तो चलिए जान लेते हैं कि गुनाहों का देवता कैसे डाउनलोड करें !

Gunaho ka Devta Pdf Download

गुनाहों का देवता के बारे में

गुनाहों का देवता का लेखक धर्म वीर भारती हैं , इसे 1959 में प्रकाशित किया गया था ! गुनाहों का देवता एक प्रेम कहानी पर आधारित उपन्यास है ! एक ऐसी प्रेम कहानी इसे पढ़ने के बाद आपका जीवन में बहुत बदलाव आएगा ! आपको बता दें आपको किसी से प्रेम हुआ है तो या नहीं हुआ है तो या फिर प्यार में धोका मिला मिला हो तो ,

आप तीनो अवस्था में इसे पढ़ सकते हैं , बहुत ही मजा आने वाला है ! लोगो को ये उपन्यास इतना पसन्द आया है कि प्रकाशित होने के लगभग 62-63 साल भी इसे खरीदने या पढ़ने बालेे की कमी नहीं हुई ! गुनाहों का देवता हिन्दी साहित्य के दस सर्व श्रेष्ठ उपन्यास में से एक है , आप जब भी इस उपन्यास को अध्यन करेंगे, आपको हर बार आपको नया ही लगेगा और कुछ नया सीखने को मिलेगा !

गुनाहों का देवता सारांश

ये कहानी है चन्द्र और सुधा का अनकहे और एक पवित्र प्रेम की ! ये उपन्यास उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद से संबंधित है , जिसे लेखक धर्म वीर भारती ने रोमांटिक शहर से संबोधत किया है , और इस रोमांटिक सा शहर में एक ऐसी प्रेम कहानी जन्म लेता है जिसे पढ़ने के बाद आपके मन और दिल से यही सब्द निकलेगा “आह क्या प्रेम कहानी है” ! और बोलेंगे कि क्या ऐसा भी होता है ! चन्द्र अपने मां से झगड़ा करता है

और वो इलाहाबाद आकर पढ़ाई शुरू कर देता है , कॉलेज में चंद्र का मुलाक़ात डॉक्टर शुक्ला से होता है , और डॉक्टर शुक्ला के मार्गदर्शन में चन्द्र रिसर्च शुरू कर देता है ! डॉक्टर शुक्ला ही चन्द्र का अभिभावक और संरक्षक दोनों का रोल निभाने लगते हैं ! और इस प्रकार से चन्द्र ,डॉक्टर शुक्ला के घर का ही एक सदस्य बन जाता है !

डॉक्टर शुक्ला के बेटी जो बहुत ही मासूम और कोमल दिल है , एक तरह से बोले तो चन्द्र के देख रेख में ही बड़ी होती है ! गुस्सा चन्द्र पर उतारना, झगड़ा भी चन्द्र से करना और चन्द्र के एक डांट पर एकदम शांत हो जाना, ये सब सुधा के स्वभाव है , चन्द्र और सुधा का प्रेम इतना सहज है कि दोनों का प्रेम कभी अपना सीमा का उलंघन नहीं करता है !

दोनों में प्रेम बहुत था, लेकिन दोनों में से किसी को ये पता नहीं था कि दोनों एक दूसरे के लिए इतना खास है , कब दोनों में इतना नजदीकियां बढ़ गया कि कुछ पता ही नही था ! लेकिन एक दिन जब डॉक्टर शुक्ला ने चन्द्र से बोला कि सुधा अब बड़ी हो गई है , सुधा का अब सादी कर देना चाहिए ! चन्द्र को ये बात सुनकर बहुत ही बुरा लगा मानो उसके पैर के नीचे से जमीन खिसक गए ,

उसे समझ में नहीं आया कि मेरे साथ क्या हो गया ! लेकिन क्या हो सकता दोनों अपने आदर्श बचाने के लिए चुप चाप रह गए, और डॉक्टर शुक्ला ने किसी दूसरे लड़के के साथ सुधा को न चाहते हुए भी सादी कर दिए ! और जाते जाते सुधा ने चन्द्र से एक सवाल पूछा कि चन्द्र अब क्या होगा? लेकिन चन्द्र के पास सुधा का साबाल का कोई जवाब नही होता है ! और यहीं से एक सच्चे प्रेम को कुचलकर एक आदर्श बादी समाज जीत जाती है !

गुनाहों का देवता का संदेश

इसमें मध्य वर्गीय समाज के मानसिकता को दर्शाया गया है ! सामाजिक मानसिकता से कुचले जा रहे सच्चे प्रेम का गाथा को दर्शाया गया है, और इन सब के अलावा बाल विवाह, अंतर्जातीय विवाह को भी दर्शाया गया है ! और बड़े ही अंदाज में इसे लिखा गया है !

चन्द्र और सुधा एक आदर्श रचने या फिर ये बोल सकते है कि अपने पिता यानी डॉक्टर शुक्ला को इजत के लिए क्या से क्या हो जाते हैं ! सुधा को भूलने के लिए चन्द्र पम्मी से रिश्ता बनाता है धीरे धीरे पम्मी और चन्द्र की नजदकियां भी बढ़ जाता है लेकिन क्या चन्द्र सुधा को भूल पाएगा? क्या सुधा के सादी के बाद सब कुछ ठीक हो जाता है? आपको पूरा जानने के लिए इस उपन्यास को पूरा पढ़ना पड़ेगा ! इसकी भाषा इतना सुन्दर है कि आपके दिल में जगह बना लेगा !

इसे पढ़ने के फायदे

पहली बात , क्या आपके मन में ये सवाल उठता है कि बिना शारीरिक सम्बन्ध के सच्चे प्यार सम्भव है तो ये किताब आप जरूर पढ़ें ! दूसरी बात आपको लव स्टोरी पसन्द है और आप गुनाहों का देवता नहीं पढ़े हैं , तो आपने कुछ नहीं पढ़ा , तो जल्दी से इसको खरीदिए और पढ़ना शुरू कर दीजिए ! आपने अगर किसी से सच्ची प्रेम किए होंगे तो खुद को इस स्टोरी से जरूर कनेक्ट कर पाएंगे ! गुनाहों का देवता एक आदर्श बादी उपन्यास है , आदर्शो को प्रितश्ठा इसमें किया गया है !

Gunaho ka Devta Pdf Download

डिस्क्लेमर :- Hindi Gyan किसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है! पायरेसी करना गैरकानूनी है! अत आप किसी भी किताब को खरीद कर ही पढ़े ! इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे !


Gunaho ka Devta Pdf DownloadBuy on Amazon