Hanuman Bahuk Pdf Download , Benefits, Process

Hanuman Bahuk तुलसी दास के द्वारा लिखा गया है ! Hanuman Bahuk को एक महान पाठ के रूप में मन जाता है ! यह नियमित रूप से आपके या आपके परिवार के सदस्य के रोगों में राहत देने में मदद करता है !

आज के इस अर्टिकल में आपको Hanuman Bahuk के पढने का सबसे आसान तरीका बताऊंगा और साथ ही इससे होने बाले लाभ को पूरी जानकारी देने वाला हूँ तथा साथ में आप सभी को मैं Hanuman Bahuk Pdf भी देने वाला हूँ जिसे आप डाउनलोड करके पढ़ सकते है और उसका लाभ ले सकते है !

ज्ञान की कमी के कारण हनुमान बाहुक आमतौर पर हम लोगों के बीच कम लोकप्रिय हैं ! इसके तुलना में हनुमान चालीसा या अष्टक या बजरंगबान ज्यादा लोकप्रिय हैं, लेकिन हनुमान बाहुक एक ऐसा उपाय है जो अच्छा स्वास्थ्य, बाधाओं से सुरक्षा और भगवान हनुमान का समग्र आशीर्वाद देता है !

Hanuman Bahuk

Who is Hanuman ?

सनातन धर्म में हनुमान जी को शिव शंकर को 11 वा अवतार मन जाता है ! हनुमान जी को बजरंग बलि , पवनपुत्र , अंजनिपुत्र , आदि नाम से पुकारा जाता है !

लगभग विश्व के सारे लोग सिर्फ हनुमान चालीसा और सुन्दरकाण्ड पढ़ते हैं , लेकिन हनुमान जी का एक बहुत ही उपयोगी ग्रन्थ है जिसके बारे में सायद ही कुछ लोग जानते लेकिन ये किताब बहुत ही उपयोगी है !

Hanuman Bahuk

तुलसी दास एक बार अपनी बाँहों में तीव्र जोड़ों के दर्द से पीड़ित थे ! वे श्रीराम चन्द्र और हनुमान जी पारं भक्तो में से एक था , उनके वाजुओ में दर्द के साथ कलयुग के प्रकोप से उनकी भुजा भी अकाद गया था ! उनको गठिया बात जैसे रोग ने जकड लिया था !

शारीर में काफी पीड़ा रहता था , शरीर में इतना दर्द था की वर्दास्त से ज्यादा हो गया था ! उन्होंने अंतरात्मा से हनुमान जी को याद किया , तुलसी दास ने दर्द भरी आवाज में हनुमान जी का नाम का अस्मरण करना शुरू कर दिए ! अपने परम भक्त असहनीय दर्द देखकर हनुमान जी प्रकट हुए ! और हनुमान जी का परामर्श से एक श्रोत्र का रचना किया !

इसीलिए उन्होंने हनुमान बाहुक लिखा था ! हनुमान बाहुक के कई फायदे हैं ! इस पुष्तक में ये लिखा गया है की स्वच्छता और पूर्ण भक्ति की बहुत आवश्यकता है !

यदि आप गठिया, वात, सिरदर्द, कंठ रोग, जोड़ों का दर्द आदि तरह के दर्द से परेशान रहते हैं, तो जल का एक पात्र सामने रखकर हनुमान बाहुक का 26 या 21 दिनों तक अच्छा मुहूर्त देखकर पाठ करें ! प्रतिदिन उस जल को पीकर दूसरे दिन दूसरा जल रख दें ! हनुमानजी की कृपा से शरीर की समस्त पीड़ाओं से आपको मुक्ति मिल जाएगी !

Process for Hanuman Bahuk in Hindi

  • रोज सुबह स्नान आदि कर लें , स्नान करने के बाद साफ कपड़े पहनकर एक लाल कपड़े पर हनुमान की मूर्ति या चित्र स्थापित करे !
  • हनुमानजी को अबीर, गुलाल आदि लगायें , गाय के शुद्ध घी का दीपक जलाएं तो पाठ के अंत तक जलता हुआ रहना चाहिए !
  • घर में बने शुद्ध घी के लड्डू का भोग लगाएं ! अगर संभव न हो तो गुड़-चने का भोग भी लगा सकते हैं !
  • इसके बाद हनुमान बाहुक का पाठ करना शुरू करें ! पाठ समाप्त होने पर हनुमानजी के कष्टों का निवारण करने के लिए प्रार्थना करें !
  • अगर रोज पाठ करना संभव है तो ठीक है अन्थया सिर्फ मंगलवार को भी हनुमान बाहुक का पाठ कर सकते हैं !
  • सारे पूजा ख़त्म हो जाने के बाद क्षमा जरुर मांग लें !

Benefits of Hanuman Bahuk

  • हनुमान बाहुक से सभी जोड़ो के दर्द को ठीक कर देता है !
  • हनुमान बाहुक आपकी सभी गंभीर बीमारियां ख़त्म करता है !
  • प्रेत बाधा, काम, क्रोध, भय ,अहंकार एवं सभी कलियुगी करतुते दूर होती हैं !
  • जिस घर में हनुमान बाहुक का पाठ होता है, वहां नेगेटिव एनर्जी नहीं टिक पाती है !
  • यह हनुमान बाहुक का पाठ आप स्वयं अथवा किसी और के लिए भी कर सकते हैं !

Download Hanuman Bahuk Pdf

डिस्क्लेमर :- Hindi gyanकिसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है! पायरेसी करना गैरकानूनी है! अत आप किसी भी किताब को खरीद कर ही पढ़े ! इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे !