Kalika Purana Pdf Download in Hindi (Latest)

Kalika Purana में माँ काली के विभ्भिन रूपों का वर्णन किया गया है , और माँ काली के सभी धार्मिक कथायो का विवेचन किया गया है ! इस Kalika Purana को 9 दिनों में ख़त्म कर दिया जाता है ! शिव महा पुराण और श्री भागवत कथा में जिन कथायो का हम दर्शन करते हैं ,उन कथायो का अध्यात्मिक ज्ञान हम इस पुराण से प्राप्त कर सकते हैं !

Kalika Purana

कलिका पुराण (Kalika Purana) में क्या है ?

इस कलिका पुराण के प्रथम खण्ड में माँ काली का स्वरुप , काली साधना , काली की महिमा ,काली का अवतरण वर्णन , काली स्तुति वर्णन एवं माँ काली की अन्य कथाये वर्णित है ! इस पुराण के अंतिम उपन्सना खण्ड में माँ का नयन वर्णन , माँ काली के साधना मन्त्र ,काली अपराध क्षमा क्षमापन सहोत्र तथा अन्य पूजा दी गयी हैं !

कलिका पुराण (Kalika Purana) का फायदे

ऐसे भक्तो का भक्ति प्राप्त होता है जो मात्र दूध ग्रहण करके माँ का उपवाश करते हैं , कोई दूध ही ग्रहण करके ऐसी सिध्धि प्राप्त करता है की वो काल को भी जित जाता है ! माँ काली के उपाशक को मौत को हरने वाला यम भी अपने साथ नर्क में नहीं ले सकता है ! यानि की माँ काली के उपाशक को हमेश स्वर्ग का प्राप्त होता है ! इसीलिए काली को कक्षिना काली भी कहा जाता है !

श्री काली की उपश्ना से साडी कस्ट उसी प्रकार से नस्त हो जाते हैं जैसे जलता हुआ आग में सभी पत्ते जल जाते हैं ! काली के उपशना करने वाले व्यक्ति का वाक्य गद्य मई और पद्यमइ हो जाता है !इस कालिका पुराण का पाठ करने वाले शाधक सभी पापों से मुक्त हो जाते हैं !

माँ काली का वर्ण श्याम है ,जिसमे ब्रन्ह्मंद का सभी रंग समिलित हैं , वे व्रम्ह स्वरुप्नी एवं वाल्यादात्री हैं ! भागवाती काली अपने उपशको पर ध्यान एवं उनका कल्याण करने वाली हैं !

दक्षिका काली मन्त्र

माँ दक्षिका काली का एक 22 शव्द का मन्त्र है , जो माँ काली के उपशको को बहुत ही काम आता है ! वो इस प्रकार है –

  • क्रीं,
  • ॐ ह्रीं ह्रीं हुं हुं क्रीं क्रीं क्रीं दक्षिण कालिके क्रीं क्रीं क्रीं हुं हुं ह्रीं ह्रीं !
  • ह्रीं ह्रीं हुं हुं क्रीं क्रीं क्रीं दक्षिण कालिके क्रीं क्रीं हुं हुं ह्रीं ह्रीं स्वाहा !
  • नमः ऐं क्रीं क्रीं कालिकायै स्वाहा !
  • नमः आं क्रां आं क्रों फट स्वाहा कालि कालिके हूं !
  • क्रीं क्रीं क्रीं ह्रीं ह्रीं हुं हुं दक्षिण कालिके क्रीं क्रीं क्रींह्रीं ह्रीं हुं हुं स्वाहा !

कालिका पुराण (Kalika Purana) कथा

महिषासुर नामक दानव भद्र कालि का अनन्या भक्तो में से एक था ! और जैसे की वेदों में लिखा गया है की असुर बहुत बड़ा मायावी होता था , वो अपनी माया से किसी भी रूप को धारण कर सकता है या कही आ -जा सकता है ! उसने माया से स्त्री रूप बदलकर कात्यन ऋषि के शिष्य को मोहित कर दिया ! और जैसा की आप जानते हैं की किसी भी ऋषि के लिए उसका सबसे बड़ा धर्म किसी भी स्त्री से दूर रहना होता है ! कात्यन ऋषि के शिष्य को उस लड़की के सम्पर्क में आने से उसका ऋषि धर्म नष्ट हो गया !

इससे गुस्सा होकर कात्यन ऋषि के शिष्य ने उसे श्राप दे दिया , की एक दिन उसका वद्ध नारी ही करेगी ! इससे महिषासुर को बहुत ही पछतावा होने लगा की उसने ये क्या कर दिया , एक ऋषि का धर्म नष्ट कर दिया ! लेकिन एक तरफ उसे ये ये भी चिंता होने लगी की उसे एक नारी के द्वारा बद्ध होगा !

वो अपने वो इस दर भयभीत था की नारी द्वारा बद्ध होने पर ये जमाना क्या कहेगा ? उसने इस दर भयभीत होकर माँ कलि का उपासना करने लगा ! माँ काली ने प्रकट होकर बोला मै तेरा उपासना से प्रशन्न हुई , बोलो क्या मागते हो !

महिषासुर बहुत प्रशन्न हुआ की मेरे सामने देवी माँ उपस्थित हैं ! उसने बोला हे माते मेरे पास सब कुछ ,बस मुझे देवताओ के जैसा इज्जत प्राप्त नहीं कर पता हूँ ! मुझे ऐसा वरदान दीजिये की हर यज्ञ या जहाँ देवताओ को पूजा जाता है वहां मेरा भी पूजा हो ! इस काली माँ बोले यज्ञ का सारा स्थान तो देवताओ के लिए पक्की है ! लेकिन मै तुम्हे इतना वरदान दे सकता हूँ ,की जहा पर मेरा पूजा होता हो वहां पर तेरा भी हो सके !

उसके लिए मै जब तेरा वध करूँगा तब ये सम्भव हो सकता है ! माते ने बोला की काली का रूप धारण करके तुझे और तेरे साथियों का वध करंगा ! और जैसा की कालिका पुराण में लिखा गया है , ठीक उसी प्रकार जहाँ काली का मूर्ति होता है वहां पर महिषासुर का भी शारीर होता है ! कालिका पुराण में देवी का सत्य और अंत्यंत सुन्दर चित्रण मिलता है !

Download Kalika Purana

डिस्क्लेमर :- Hindi Gyan किसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है! पायरेसी करना गैरकानूनी है! अत आप किसी भी किताब को खरीद कर ही पढ़े ! इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे !


Download Kalika PuranaBuy on Amazon