Neel Saraswati Stotra Pdf Download, Benefits, Process

Neel Saraswati Stotra एक महा मंत्र या भजन है जो देवी नील सरस्वती को समर्पित है ! उन्हें नीला देवी या तारा देवी भी कहा जाता है ! ‘नीला’ का अर्थ नीला है, और वह शिक्षा की देवी है ! ज्ञात और अज्ञात शत्रुओं से हमारी रक्षा के लिए यह स्तोत्र लाभकारी बताया गया है ! Neel Saraswati Stotra पढने से शत्रु से छुटकारा मिलता है !

बहुत से लोग अपने शत्रुओं के कारण होने वाली सभी प्रकार की समस्याओं से पीड़ित होते हैं ! ऐसे शत्रु हमारे अपने परिवार, मित्र मंडली और सहकर्मियों में पाए जा सकते हैं ! उनके हानिकारक कार्यों के कारण हमें पीड़ा और पीड़ा हो सकती है ! वे हमारे सुख और मन के उपदेश को नष्ट कर सकते हैं, ऐसे लोगों के लिए नील सरस्वती स्तोत्र का पाठ रामबाण हो सकता है !

Who is Neel Saraswati ?

यह देवी वाणी की अधिष्ठात्री देवी और भगवान ब्रह्मा की शक्ति हैं, इनकी पूजा करने वाले कला में पारंगत हो सकते हैं ! ऐसा कहा जाता है कि ऋषि व्यास अपनी कृपा से ही 18 महा पुराणों पर काम करने और उन्हें पूरा करने में सक्षम थे ! नील सरस्वती स्तोत्र का पाठ आमतौर पर बसंत पंचमी के दिन देवी सरस्वती की पूजा के दौरान किया जाता है ! लेकिन अगर आप नियमित रूप से देवी की पूजा करते हैं तो इसका पाठ भी किया जा सकता है !

Benefits of Neel Saraswati Stotra

यह मंत्र बच्चों के लिए विशेष रूप से लाभकारी है !
इस मंत्र का जाप करने से उनका दिमाग सूचनाओं को प्रोसेस करने में तेज हो जाएगा !
वे अपनी पढ़ाई में अच्छा करेंगे और सभी कलाओं में कुशल भी होंगे !
वे एक तेज याददाश्त हासिल करने में भी सक्षम होंगे !
नियमित रूप से इसका पाठ करने वाले ज्योतिषी अधिक सटीक भविष्यवाणियां करने में सक्षम होंगे !
जो छात्र अपने सभी परीक्षणों और परीक्षाओं में सफल होना चाहते हैं, वे इस स्तोत्र का जाप कर सकते हैं !
जो लोग उच्च शिक्षा प्राप्त कर विदेश जाना चाहते हैं वे भी इस मंत्र का जाप कर सकते हैं !

माना जाता है कि देवी अपने उपासकों को सभी प्रकार के दुर्भाग्य से बचाती हैं और उनके प्रयासों में सफलता प्रदान करती हैं ! उन्हें धन और अन्य सांसारिक सुख भी मिल सकते हैं ! मंत्र गलतफहमियों को भी रोक सकता है जो मित्रों और रिश्तेदारों के बीच विवाद, तर्क और कलह का कारण बनते हैं ! यह जीवन में चुनौतियों से निपटने के लिए आवश्यक ज्ञान और बुद्धिमत्ता दे सकता है और उनकी प्रगति को अवरुद्ध करने वाली बाधाओं को दूर कर सकता है ! मंत्र किसी की याददाश्त, समझने की शक्ति और रचनात्मकता में सुधार कर सकता है ! यह हमारे संचार कौशल में भी सुधार कर सकता है !

Neel Saraswati Stotra

घोररूपे महारावे सर्वशत्रुभयंकरि।
भक्तेभ्यो वरदे देवि त्राहि मां शरणागतम्।।1।।

ॐ सुरासुरार्चिते देवि सिद्धगन्धर्वसेविते।
जाड्यपापहरे देवि त्राहि मां शरणागतम्।।2।।

जटाजूटसमायुक्ते लोलजिह्वान्तकारिणि।
द्रुतबुद्धिकरे देवि त्राहि मां शरणागतम्।।3।।

सौम्यक्रोधधरे रूपे चण्डरूपे नमोSस्तु ते।
सृष्टिरूपे नमस्तुभ्यं त्राहि मां शरणागतम्।।4।।

जडानां जडतां हन्ति भक्तानां भक्तवत्सला।
मूढ़तां हर मे देवि त्राहि मां शरणागतम्।।5।।

वं ह्रूं ह्रूं कामये देवि बलिहोमप्रिये नम:।
उग्रतारे नमो नित्यं त्राहि मां शरणागतम्।।6।।

बुद्धिं देहि यशो देहि कवित्वं देहि देहि मे।
मूढत्वं च हरेद्देवि त्राहि मां शरणागतम्।।7।।

इन्द्रादिविलसदद्वन्द्ववन्दिते करुणामयि।
तारे ताराधिनाथास्ये त्राहि मां शरणागतम्।।8।।

अष्टभ्यां च चतुर्दश्यां नवम्यां य: पठेन्नर:।
षण्मासै: सिद्धिमाप्नोति नात्र कार्या विचारणा।।9।।

मोक्षार्थी लभते मोक्षं धनार्थी लभते धनम्।
विद्यार्थी लभते विद्यां विद्यां तर्कव्याकरणादिकम।।10।।

इदं स्तोत्रं पठेद्यस्तु सततं श्रद्धयाSन्वित:।
तस्य शत्रु: क्षयं याति महाप्रज्ञा प्रजायते।।11।।

पीडायां वापि संग्रामे जाड्ये दाने तथा भये।
य इदं पठति स्तोत्रं शुभं तस्य न संशय:।।12।।

इति प्रणम्य स्तुत्वा च योनिमुद्रां प्रदर्शयेत।।13।।

When to chant Neel Saraswati Stotra?

यदि आप प्रतिदिन स्तोत्र का जाप नहीं कर सकते हैं, तो आप इसे गुरुवार को कर सकते हैं ! नील सरस्वती की पूजा के लिए पंचमी तिथि और पूर्णिमा के दिन भी आदर्श होते हैं , ब्रह्म मुहूर्त इसका जाप करने का सबसे अच्छा समय है !


आप इसका जाप बुद्ध होरा के दौरान या सुबह 6 बजे से सुबह 7 बजे तक भी कर सकते हैं ! इसे रोजाना 9 बार जप करना चाहिए ! कोई भी इसका जाप कर सकता है, युवा हो या बूढ़ा, पुरुष हो या महिला। देवी या यंत्र की एक छवि या मूर्ति का उपयोग किया जा सकता है ! श्री यंत्र या श्री महा मेरु मंत्र का प्रयोग भी शुभ होता है !

स्तोत्र का जाप करते समय पूर्व की ओर मुख करके बैठना चाहिए ! प्रसाद में मिठाई पोंगल या पारंपरिक मिठाई शामिल हो सकती है ! शुद्ध गाय का दूध गुड़ के साथ भी नैवेद्य के रूप में दिया जा सकता है ! थोड़ा सा शहद या शहद, गुड़, सेंधा चीनी आदि से बना कोई व्यंजन भी चढ़ाया जा सकता है !

फूलों में सफेद कमल, सफेद चमेली, सफेद गुलाब या चंपा शामिल हो सकते हैं, नील सरस्वती को नीले रंग के फूल भी चढ़ाए जा सकते हैं !

Download Neel Saraswati Stotra

डिस्क्लेमर :- Hindigyan किसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है! पायरेसी करना गैरकानूनी है! अत आप किसी भी किताब को खरीद कर ही पढ़े ! इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे !


1 thought on “Neel Saraswati Stotra Pdf Download, Benefits, Process”

Leave a Comment