Shiv Puran Pdf Download in Hindi

Shiv Puran Pdf

Shiv Puran Pdf को यदि आप Download करना चाहते है तो आप हमारे इस वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते है ! लेकिन उससे पहले हम विस्तार से शिव पुराण के बारे में जानेंगे !

शिव पुराण क्या है, इसे पढ़ने से आपको क्या क्या लाभ मिलता है? इसे पढने के क्या नियम होते है, इन सभी चीजो के बारे में हमें जरुर जानना चाहिए ! शिवपुराण का पाठ आज के समय में भी बहुत से लोग करते है लेकिन उन्हें इसके फायदे के बारे में पता नही होता है!

शिव पुराण का पाठ करने का सही नियम क्या होता है? इसे कब और किस समय पाठ करना चाहिए ताकि इसका सही लाभ आपको मिल सके, इन्ही सभी चीजो के बारे में आज हम जानने वाले है!

शिव पुराण क्या है?

शिव पुराण को सभी पुराणों में सबसे महवपूर्ण माना जाता है, इसमें भगवान् शिव के कल्याणकारी रूप के गुणगान और उनके पूजा पद्धति और भगवन शिव के शिवलिंग के स्वरूप प्रतीत के बारे में, शिवलिंग के उत्त्पति के बारे में, सृष्ठी के निर्माण से जुड़े रहस्य के बारे में , शिवरात्रि के दिन के महत्व के बारे में तथा घोर कलयुग के बारे में बताया गया है ! Gunaho ka Devta Pdf Download ! गुनाहों का देवता डाउनलोड

इन सभी के आलावा शिव पुराण में शिक्षा प्रद कहानियों का भी संयोजन किया गया है ! शिव पुराण में २४ हजार श्लोक मिलते है जो ७ संहिताओ में विभक्त है! माना जाता है की जो भी इस शिव पुराण के अनुसार भगवान शिव का पूजा करता है या फिर इस शिव पुराण का पाठ करता है या करवाता है या पूरी श्रध्दा के साथ शिव पुराण के पाठ को सुनता है भगवान् शिव उसका कल्याण करते है, इसका पाठ करने और सुनने से मनोकामना पूर्ण हो जाती है !

Who wrote Shiv Puran? शिव पुराण को किसने लिखा?

शिव पुराण को महर्षि वेदव्यास ने भारत देश में संस्कृत भाषा में लिखा है ! शिव पुराण को हिन्दू धार्मिक ग्रन्थ भी कहा जाता है! इसमें कुल २४ हजार श्लोक है! इसे ६ खंड में लिखा गया है !

  • विद्येश्वर संहिता
  • रुद्र संहिता
  • कोटिरुद्र संहिता
  • उमा संहिता
  • कैलास संहिता
  • वायु संहिता

शिव महापुराण कथा का महत्व

शिवपुराण का महत्व वही जान सकता है जो इस शिव पुराण के बारे में अच्छी तरीके से पढ़े ! शिव पुराण का महत्व उतना ही गहरा है, जितना की समुद्र गहरा है ! कहते है एक बारे एक चोर महाशिवरात्रि के दिन शिव मंदिर में वह चोरी करने के लिए जाता है ! लेकिन उसे मंदिर में अँधेरे के वजह से उसे कुछ भी चोरी करने के नही मिलता है !

उस चोर को टटोलते – टटोलते एक दिया मिलता है, वह चोर उस दिया को जलाता है और चोरी का सामान खोजने लगता है, तभी वहा शिव जी प्रकट होते है और कहते है बोलो तुम्हे क्या चाहिए, लेकिन चोर बोलता है मैं यहा आपसे कुछ मांगने नही बल्कि चोरी करने आया था! लेकिन शिव तब भी उसे वरदान देते है और कहते है आज के बाद तुम कुबेर गद्दी बार बैठोगे ! इतने उदार है हमारे शिव जी, इन सभी महिमाँ का गुणगान आपको शिव पुराण में मिलता है !

शिव पुराण पढने के फायदे

शिव पुराण को पढने के आपको बहुत सारे फायदे है, इसमें भगवान् शिव और माता पार्वती के महिमा कर वर्णन किया है साथ में आपको इसमें शिव भगवान् के पूजा विधि के बारे में लिखा गया है ! इसमें जितने भी खंड लिखे गये है, इसमें सभी खंड में अलग- अलग चीजो का वर्णन किया गया है!

इसे भी पढ़े – Maruti Stotra Lyrics and PDF | मारुती स्तोत्र के लाभ

  • जो व्यक्ति शिव पुराण को पढता है उससे भगवान् शिव प्रसन्न होते है और भगवान् शिव के कृपा से मोक्ष की प्राप्ति होती है!
  • किसी व्यक्ति से अगर अनजाने में कोई पाप हो जाए और वह शिव पुराण का पाठ करने लगे तो उसे पाप से और ताप से मुक्ति मिलती है!
  • जो व्यक्ति शिव पुराण को पढने लगता है, उस व्यक्ति को मृत्यु के बाद शिवगण लेने आते है यमराज नही !
  • श्रावण में शिव पुराण का पाठ करने से इसका फल सैकड़ो गुना बढ़ जाता है !
  • शिव पुराण का पाठ करने से व्यक्ति पर आने वाले सभी परेशानी और आपत्ति से बच जाता है !

शिव पुराण की महत्वपूर्ण बाते

शिव पुराण के अंदर बहुत सी ऐसी बाते लिखी गयी है जो हमारे जिन्दगी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है, जिसके बारे में हम सभी लोगो को जानना चाहिए! इसमें बहुत सी ऐसी बाते है जो मनुष्य का मार्गदर्शन करती है ! जिसमे मनुष्य की बहुत सी समस्या दूर हो सकती है!

  • शिव पुराण के अनुसार जो भी व्यक्ति अच्छे मार्ग से धन का संचय करता है, वो धन के तीन भाग में उपयोग करता है !
    1. पहले धन भाग से वो धन में वृद्धि करता है!
    2. दुसरे भाग से वो उपभोग करता है !
    3. तीसरे भाग को वो धन कर्मे के कामो में खर्च करता है! ऐसा करने से व्यक्ति को जीवन में कामयाबी हासिल होती है!
  • शिव पुराण में ये भी कहा गया है की मनुष्य को कभी भी गुस्सा नही करना चाहिए और ना कभी कोई ऐसी बात बोलनी चाहिए , जिससे किसी दुसरे को क्रोध आये ! गुस्से में मनुष्य का विवेक नष्ट हो जाता है!
  • मनुष्य को हमेशा सत्य के मार्ग पर ही चलना चाहिए! सत्य हमेशा सबसे बड़ा धर्म बताया गया है!
  • कोई मनुष्य को कर्म करता है वो अपने जीवन में खुद उसका साक्षी बनता है, जो व्यक्ति जैसा कर्म करता है वैसा ही फल अपने जीवन काल में ही पा लेता है!

Shiv Puran Pdf Download

shiv puran pdf को आप नीचे दिए लिंक से डाउनलोड कर सकते है और अगर आप उसे खरीदना चाहते है तो नीचे दिए गये लिंक से आप इसे खरीद भी सकते है!

Shiv Puran Pdf DownloadDownload
Shiv Puran Pdf DownloadDownload

डिस्क्लेमर:- हिंदी ज्ञान वेबसाइट किसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है, अगर इस पीडीऍफ़ से किसी को कोई आपत्ति है तो वह मुझसे सम्पर्क कर सकता है, मैं इस विषय पर तुरंत निर्णय लूँगा !

अन्य लेख पढ़े और पीडीऍफ़ डाउनलोड करे