What is Kuja Dosh ? what is its Diagnosis ?

वैदिक ज्योतिष में Kuja Dosh को मंगल दोष, सुमंगलिक दोष, अंगारक दोष, भोम दोष कहा जाता है ! Kuja Dosh का रंग लाल होता है ! कूज पृथ्वी का पुत्र है !

आज के इस अर्टिकल में आपको Kuja Dosh स्तुति के पढने का सबसे आसान तरीका बताऊंगा और साथ ही इससे होने बाले लाभ को पूरी जानकारी देने वाला हूँ तथा साथ में आप सभी को मैं Kuja Dosh Pdf भी देने वाला हूँ जिसे आप डाउनलोड करके पढ़ सकते है और उसका लाभ ले सकते है !

The Hidden Factors Behind Couple’s Fight – Kuja Dosh

वैदिक ज्योतिष में इसे मंगल दोष, सुमंगलिक दोष, अंगारक दोष, भोम दोष कहा जाता है ! दोष का अर्थ है प्रतिकूल प्रभाव या वह जो समस्या पैदा कर सकता है !

कुजा मंगल ग्रह है , जन्म कुंडली में मंगल ग्रह की अशुभ स्थिति में यह स्थिति उत्पन्न होती है ! जब मंगल ग्रह लग्न या चंद्रमा या शुक्र से दूसरे, चौथे, सातवें, आठवें या बारहवें स्थान में स्थित हो तो इसे कुज दोष कहा जाता है !

The Story of Kuja Dosh

ब्रह्म वैवर्त पुराण कहता है कि कूज पृथ्वी का पुत्र है, कु” का अर्थ है पृथ्वी और “झा” का अर्थ है जन्म ! वह भगवान विष्णु और धरती माता या भूदेवी द्वारा एकता के प्रतीक के रूप में, समुद्र में पीछे छोड़े गए मूंगा से पैदा हुआ है ! इसलिए उन्हें भौमा कहा जाता है ! वह लाल रंग का है ! भगवान सुब्रमण्य/मुरुगा इस ग्रह के अधिष्ठाता देवता हैं !

मंगल ग्रह के लक्षण या कुजा

मंगल ग्रह अपार साहस, ऊर्जा, इच्छा शक्ति और आत्मविश्वास का प्रतीक है ! नकारात्मक रूप से, यह आक्रामकता, जलन, क्रोध, अस्थिर स्वभाव, तर्क, संघर्ष, प्रतिस्पर्धा, वर्चस्व, हिंसा, चोट और आपदा का कारण बनता है ! इस ग्रह की गतिशील ऊर्जा को सकारात्मक रूप से प्रसारित करना होगा; अन्यथा यह प्रतिकूल प्रभाव डालता है !

कैसे पता करें कि किसी को कूज दोष है या नहीं?

  • किसी की कुंडली या कुंडली के अध्ययन से कुंडली में मंगल ग्रह की स्थिति का पता चलता है !
  • विवाह के सातवें भाव पर ग्रह के प्रभाव का अध्ययन किया जाता है !
  • यदि मंगल स्वयं के घर या प्रथम भाव में स्थित हो तो दोष नहीं होता है !
  • इस ग्रह की स्थिति यह जानने में मदद करेगी कि कोई व्यक्ति इस दोष से पीड़ित है या नहीं !

घरों का महत्व कुजा दोष के प्रभाव

  • दूसरा घर परिवार और खुशी कठोर वाणी, भागीदारों के बीच गलतफहमी !
  • चौथा घर बचपन और उसके अनुभव आक्रामकता, परेशान घरेलू जीवन, बार-बार झगड़े !
  • 7 वां घर विवाह और जीवनसाथी के साथ साथी मतभेद होता रहता है !
  • 8 वां घर जीवनसाथी का कल्याण जीवनसाथी की अकाल मृत्यु, दुर्घटनाएँ, ससुराल पक्ष की समस्याएँ !
  • 12 वां घर जोड़ों के बीच वैवाहिक सुख विवाह में शत्रुता और अविश्वास। दैनिक जीवन बहुत कठिन हो जाता है !

विवाह पर कुज दोष का प्रभाव

  • विवाह के समय कुज दोष का ध्यान रखा जाता है !
  • कुंडली की अनुकूलता का अध्ययन किया जाता है और विवाह की सफलता के लिए कुंडली में मंगल की स्थिति का गहन विश्लेषण किया जाता है !
  • जब मंगल विवाह के सप्तम भाव को अशुभ रूप से प्रभावित करता है तो पति-पत्नी को पारिवारिक जीवन में लगातार लड़ाई और कलह जैसी गंभीर समस्याएं होती हैं !
  • यदि उचित समय पर उचित उपचार नहीं किया जाता है, तो यह दोष मौखिक, शारीरिक और भावनात्मक हमलों के मामले में एक अपमानजनक विवाह की ओर ले जाता है !
  • जातक को विवाह के दौरान प्रताड़ित किया जाएगा, जीवनसाथी द्वारा सामना की गई कठिनाइयों को सहना होगा, और अंततः यह जातक की गलती के बिना अलगाव, तलाक की ओर ले जाएगा !

Ways to get over Kuja Dosha

  • इस दोष वाले व्यक्ति के लिए, आमतौर पर 28 वर्ष की आयु के बाद विवाह में प्रवेश करने की सलाह दी जाती है, जब दोष की तीव्रता कम हो जाती है !
  • कई मामलों में, यदि दोनों भागीदारों में कुजा दोष है, तो विवाह करने की सलाह दी जाती है क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि यह इस ग्रह की नकारात्मक ऊर्जाओं को नकारने और संतुलित करने के लिए है !
  • ऐसा माना जाता है कि जिन लोगों ने पिछले जन्मों में अपने जीवन साथी के साथ बुरा व्यवहार किया था, उन्हें यह दोष होगा। इस दोष के निवारण के लिए हनुमान चालीसा का पाठ सबसे उत्तम उपाय है !
  • मंगलवार का उपवास और मंगल ग्रह की पूजा करने से दोष की तीव्रता को कम करने में मदद मिलेगी !

Effect of Kuja Dosha on Marriage

कुज दोष को विवाह के समय विशेष ध्यान रखा जाता है !

चार्ट की अनुसार अध्ययन किया जाना चाहिए और विवाह की सफलता के लिए किसी के चार्ट में मंगल की स्थिति का गहन विश्लेषण किया जाता है !
· जब मंगल विवाह के सप्तम भाव को अशुभ रूप से प्रभावित करता है तो पति-पत्नी को गंभीर समस्या होती है, जैसे पारिवारिक जीवन में लगातार लड़ाई-झगड़ा और कलह होता है !
यदि उचित समय पर उचित उपचार नहीं किया जाता है, तो यह दोष मौखिक, शारीरिक और भावनात्मक हमलों के मामले में एक अपमानजनक विवाह की ओर ले जाता है !
· विवाह के दौरान जातक को प्रताड़ित किया जाएगा, जीवनसाथी द्वारा सामना की गई कठिनाइयों को सहना होगा, और अंततः यह जातक की गलती के बिना अलगाव, तलाक की ओर ले जाएगा !

Kuja Dosh Treatment

इस दोष वाले व्यक्ति के लिए, आमतौर पर 28 वर्ष की आयु के बाद विवाह में प्रवेश करने की सलाह दी जाती है, जब दोष की तीव्रता कम हो जाती है ! कई मामलों में, यदि दोनों भागीदारों में कुजा दोष है, तो विवाह करने की सलाह दी जाती है क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि यह इस ग्रह की नकारात्मक ऊर्जाओं को नकारता और संतुलित करता है !

ऐसा माना जाता है कि जिन लोगों ने पिछले जन्मों में अपने जीवन साथी के साथ बुरा व्यवहार किया था, उन्हें यह दोष होगा। इस दोष के निवारण के लिए हनुमान चालीसा का पाठ सबसे उत्तम उपाय है !

मंगलवार का उपवास और मंगल ग्रह की पूजा करने से दोष की तीव्रता को कम करने में मदद मिलेगी !

Savitri Vrat for Kuja Dosh

भारतीय राज्यों जैसे बिहार, उत्तर प्रदेश और ओडिशा में विवाहित हिंदू महिलाएं ज्येष्ठ महीने में अमावस्या (कोई चंद्र दिवस) पर अपने पति की लंबी उम्र के लिए सावित्री व्रत रखती हैं ! व्रत का नाम सत्यवान और सावित्री की कथा से आया है, सावित्री एक समर्पित पत्नी थी जिसने मृत्यु के देवता यम को धोखा दिया और अपने पति सत्यवान को शीघ्र मृत्यु से बचाया ! यह त्यौहार महाराष्ट्र, गुजरात, गोवा और कर्नाटक जैसे राज्यों में ज्येष्ठ की पूर्णिमा, वट पूर्णिमा पर मनाया जाता है ! जैसा कि एक महिला की कुंडली में कुज दोष पति की लंबी उम्र को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है, ऐसा माना जाता है कि यह व्रत इसे टाल देता है !

Exemption from Kuja Dosh

  1. मंगल चौथे या सातवें भाव में वृश्चिक, मेष, कर्क या मकर राशि के साथ समरूप हो। यह एक अनुकूल स्थिति है !
  2. मंगल पहले, दूसरे, चौथे, सातवें, आठवें या बारहवें भाव में हो लेकिन चंद्रमा, बुध या बृहस्पति या बुध के साथ हो !
  3. मंगल उपरोक्त में से किसी भी भाव में लग्न, चंद्र या शुक्र से लेकिन मेष या वृश्चिक (स्वयं की राशि) में कोई दोष नहीं है !
  4. शुक्र की राशि में मंगल यदि चतुर्थ या सातवें भाव में हो तो अशुभ नहीं होता है !
  5. मंगल दूसरे भाव में बुध (कन्या या मिथुन) की राशि में !
  6. सूर्य, चंद्रमा और शनि (क्रमशः सिंह, कर्क और मकर) के स्वामित्व वाले घरों में मंगल का कोई दोष नहीं है !
  7. मंगल के कब्जे में बृहस्पति का शासन है और यह 8 वां है !
  8. मंगल मेष, तुला, कर्क और मकर राशि में गतिशील राशियों में !
  9. मंगल कर्क और मकर राशि में !
  10. यदि मंगल कमजोर हो, उस पर दृष्ट हो या किसी शुभ ग्रह की युति हो !
  11. यदि मंगल कर्क या सिंह राशि में हो, चाहे वह किसी भी घर में हो !
    १२. मंगल मिथुन या वृष या १२वें भाव में तुला, दूसरे भाव में मेष या वृश्चिक, ४वें भाव में मेष या वृश्चिक, ४वें भाव में वृष या तुला, ८वें भाव में कन्या या मकर !
  12. मंगल यदि अश्विनी, मूल और माखा नक्षत्रों में हो !
  13. यदि मंगल धनु लग्न के लिए मकर राशि में है या मीन लग्न के लिए मेष उपरोक्त में से किसी भी घर में है !
  14. यदि मंगल वृश्चिक राशि में कुम्भ में हो या मेष लग्न के लिए कर्क राशि में हो !
  15. यदि लग्नेश शनि के साथ मंगल सप्तम में हो !
  16. यदि लग्नेश शुक्र वाले (सिंह और कर्क लग्न के लिए) मंगल अष्टम भाव में हो !
  17. यदि मंगल दूसरे भाव में है जिस पर बुध का शासन है !
  18. यदि मंगल चतुर्थ भाव में है जो उसका अपना घर है !
  19. यदि मंगल बारहवें भाव में हो जिस पर शुक्र का शासन हो !
    ·

Download Kuja Dosh PDF

डिस्क्लेमर :- Hindigyan किसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है! पायरेसी करना गैरकानूनी है! अत आप किसी भी किताब को खरीद कर ही पढ़े ! इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे !