What is Samveda? Samveda Pdf Download in Hindi

Samveda चारों वेदों में सबसे छोटा है ! Samveda को ऋग्वेद से गहरा संबंध है ! यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सामवेद की संहिता एक स्वतंत्र संग्रह (संहिता) है, फिर भी इसने ऋग्वेद की संहिता से कई श्लोक, वास्तव में एक बड़ी संख्या ली है !

आज के इस अर्टिकल में आपको Samveda पढने का सबसे आसान तरीका बताऊंगा और साथ ही इससे होने बाले लाभ को पूरी जानकारी देने वाला हूँ तथा साथ में आप सभी को मैं Samveda Pdf भी देने वाला हूँ जिसे आप डाउनलोड करके पढ़ सकते है और उसका लाभ ले सकते है !

Samveda
Samveda

What is Samveda ?

चारो वेदों में से यह सबसे वेद है ! ऋग्वेद की संहिता से कई श्लोक, वास्तव में एक बड़ी संख्या ली है ! ये श्लोक मुख्य रूप से ऋग्वेद के आठवें और नौवें मंडल से लिए गए हैं ! सामवेद को विशेष रूप से अनुष्ठान के लिए संकलित किया गया है, क्योंकि इसके सभी छंद सोम-यज्ञ और उससे प्राप्त प्रक्रियाओं के अनुष्ठानों में जप करने के लिए हैं ! इसलिए सामवेद विशेष रूप से उदगत्र पुजारी के लिए अभिप्रेत है! इसके श्लोक संगीत समन या मंत्रों के उनके उचित चरित्र को केवल गण नामक विभिन्न गीत-पुस्तकों में ग्रहण करते हैं ! जैमिनीय सूत्र के अनुसार – ‘माधुर्य को समान कहते हैं !

परंपरागत रूप से वेदों को ‘त्रयी’ कहा जाता है, क्योंकि वे मंत्रों में तीन प्रकार से बने होते हैं- आरसीएस या छंद, यजु या गद्य, समन या मंत्र !

Samaveda is the most important of the four Vedas.

चार वेदों में सामवेद को सबसे प्रमुख माना जाता है! भगवद्गाता में, जहां भगवान कृष्ण ने “वेदों में मैं सामवेद” घोषित किया है – वेदनामा सामवेदोस्मि (गीता, 10.22) ! यहां मुख्य रूप से इंद्र, अग्नि और सोम देवताओं का आह्वान किया जाता है और उनकी प्रशंसा की जाती है, लेकिन अधिकांश समय ये प्रार्थनाएं सर्वोच्च होने के लिए आह्वान प्रतीत होती हैं ! आध्यात्मिक अर्थ में सोम सर्वव्यापी, गौरवशाली भगवान और ब्रह्म का प्रतिनिधित्व करता है, जो केवल भक्ति और संगीत जप के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है ! इस प्रकार सामवेद का प्रमुख विषय पूजा और भक्ति (उपासना) माना जा सकता है !

Samveda Sangeet Producer

साम वेद या “ज्ञान का गीत” चार वेदों में से एक है, प्राचीन ग्रंथों का एक समूह जिसे परमात्मा माना जाता है ! अथर्ववेद और यजुर्वेद के समान समय में 1200 से 1000 ईसा पूर्व में लिखे जाने से पहले साम वेद का सैकड़ों वर्षों तक मौखिक प्रसारण का इतिहास रहा है ! में 1,549 छंद हैं और विभिन्न पुराने संस्करण भारत में भौगोलिक व्यापक स्थानों की परवाह किए बिना बहुत समान हैं !

वेद विशेष रूप से वेदांत स्कूल के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि इसमें छांदोग्य उपनिषद और केना उपनिषद शामिल हैं, जिन्हें प्राथमिक उपनिषद माना जाता है ! इसके अलावा, उसी वेद में कांड शामिल हैं !

  • आज्ञा कांड
  • इंद्र कांड
  • पवामन कंडा
  • अरण्य कंद

पतंजलि द्वारा बताई गई प्राचीन परंपरा के अनुसार, सामवेद में 1000 खंड (शाखा) थे ! लेकिन वर्तमान में केवल तीन विच्छेदन हैं। य़े हैं –

Three sections of Samveda

(१) कौथुमा (२) जैमिनिया (३) रणयनिया लेकिन आज कौथुमा शाखा को अधिक प्रमुखता से जाना जाता है ! कौथुमा की सामवेद-संहिता में दो भाग होते हैं, अर्चिका और गण। अर्चिका भी दो भागों में बंटी हुई है ! – पूर्वार्चिका और उत्तरारिका। पहले भाग में चार भाग होते हैं:

  • अग्नेय – अग्नि के लिए ११४ श्लोक
  • ऐन्द्र – इन्द्र के लिए ३५२ पद
  • पवमन – सोम पावमन के लिए 119 श्लोक
  • अरण्य – इंद्र, अग्नि, सोम आदि के लिए 55 श्लोक (और महानमनी मंत्र -10)
  • इस भाग में 650 श्लोक दिया गया हैं !

सामवेद-संहिता के दूसरे भाग उत्तरारिका में कुल 1225 श्लोक हैं !अतः सामवेद-संहिता में कुल श्लोकों की संख्या १८७५ है ! इनमे से १७७१ श्लोक ऋग्वेद के हैं !

सामवेद का गण भाग भी प्रकृति गण और ऊह गण में विभाजित है। कड़ाई से बोलते हुए, उह गण मूल वेद का हिस्सा नहीं है, बल्कि प्रकृति गण से उत्तरार्चिका के मंत्रों के लिए पूर्वार्चिका पर आधारित सामनों का अनुप्रयोग है !

Samveda Pdf Download

डिस्क्लेमर :- Hindi gyanकिसी भी प्रकार के पायरेसी को बढ़ावा नही देता है, यह पीडीऍफ़ सिर्फ शिक्षा के उद्देश्य से दिया गया है! पायरेसी करना गैरकानूनी है! अत आप किसी भी किताब को खरीद कर ही पढ़े ! इस लेख को अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे !